छत्तीसगढ़ में आप का अविश्वास

रायपुर | संवाददाता: छत्तीसगढ़ में कथित भ्रष्ट मंत्रियों को लेकर आप के नेता चुप्पी साध गये हैं. पार्टी के नेता कुमार विश्वास ने साल भर पहले जो दावा किया था, उस दिशा में साल भर बाद भी आप पार्टी के नेता मौनी बाबा बने हुये हैं.

पिछले साल यानी 10 दिसंबर 2012 को रायपुर के एक कार्यक्रम में पहुंचे कुमार विश्वास ने कहा था कि छत्तीसगढ़ के पांच मंत्रियों के खिलाफ भ्रष्टाचार के सबूत मिल रहे हैं. कुछ और खोजबीन जारी है. इस खोजबीन के बाद इसकी सत्यता की पुष्टि की जाएगी, इसके बाद इसका खुलासा जल्द ही अरविंद केजरीवाल रायपुर आकर करेंगे. फिलहाल उनकी पार्टी से जुड़े लोग कुछ और मंत्रियों के बारे में जानकारी एकत्र कर रहे हैं.


कुमार विश्वास ने कहा था कि दो महीना पहले जब वे जांजगीर आए थे, तब प्रदेश के इन पांच मंत्रियों के खिलाफ भ्रष्टाचार व अन्य कारनामे की जानकारी मिली थी. जांच के बाद यदि इसकी सत्यता पाई गई तब स्वयं अरविंद केजरीवाल व टीम के अन्य बड़े सदस्य रायपुर आकर इसका खुलासा करेंगे.

लेकिन इस बात को साल भर से अधिक गुजर गये हैं. आप पार्टी के नेता कुमार विश्वास एक बार फिर रायपुर में कविता पढ़ के चले गये. लेकिन रमन सरकार के मंत्रियों के कथित भ्रष्टाचार पर कुमार विश्वास की बोलती बंद हो गई. अगर विश्वास के दावे सही थे तो उन्हें इस राज को उजागर करना चाहिये था और अगर ऐसा नहीं था तो क्या यह मान लिया जाये कि कुमार विश्वास का यह बयान महज सनसनी फैलाने के लिये था.

यहां गौरतलब है कि आप पार्टी के नेता कुमार विश्वास पिछले साल जब संवाददाता सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे, तब वे बिल्डर संजय वाजपेयी के साथ गलबहियां डाल कर साथ-साथ घूम रहे थे. वही संजय वाजपेयी पिछले कुछ महीनों से ज़मीन घोटाले में जेल में हैं.

पिछले साल कुमार विश्वास ने दावा किया था कि फरवरी 2013 तक छत्तीसगढ़ में सभी ज़िलों में संगठन तैयार किया जाएगा और फरवरी में आम आदमी पार्टी एक बड़ा कार्यक्रम रायपुर में करेगी. उसमें अरविंद केजरीवाल भी शामिल होंगे. लेकिन न तो संगठन बन पाया और ना ही केजरीवाल छत्तीसगढ़ आये.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!