सोनू से गीत गवा, क्रू निलंबित हुआ

मुंबई | मनोरंजन डेस्क: सोनू निगम से विमान में गाना गवाने के कारण जेट एयरवेज के पांच क्रू मेंबर को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है. विमानन कंपनी जेट एयरवेज ने शुक्रवार को कहा कि उसने चार जनवरी की जोधपुर-मुंबई उड़ान के चालक दल के पांच सदस्यों को निलंबित कर दिया. कंपनी ने उड़ान के दौरान पाश्र्व गायक सोनू निगम को विमान की उद्घोषणा प्रणाली पर गीत गाने की अनुमति देने के कारण चालक दल को निलंबित किया है.

कंपनी के प्रवक्ता ने कहा, “चालक दल के सभी सदस्यों को जांच और प्रशिक्षण के लिए दायित्व से हटा दिया गया है, ताकि वे आगे संचालन प्रक्रियाओं का सख्ती से पालन करें.”


विमानन सुरक्षा विशेषज्ञ के मुताबिक, विमान की किसी भी प्रणाली के अनधिकृत उपयोग से खतरा पैदा हो सकता है.

नागरिक उड्डयन महानिदेशालय (डीजीसीए) के पूर्व महानिदेशक और सुरक्षा विशेष कानू गोहैन ने कहा, “यह एक महत्वपूर्ण सूचना प्रणाली है, जिसका उपयोग चालक दल यात्रियों को महत्वपूर्ण सुरक्षा प्रक्रियाओं, मौसम और अन्य चेतावनी देने में करता है.”

गोहैन 2006 और 2008 के बीच डीजीसीए के प्रमुख थे.

उन्होंने कहा, “यदि उस समय कोई आपात स्थिति पैदा होती, तो यात्रियों को सूचना देने में देरी हो जाती. इससे चालक दल का ध्यान दूसरी जवाबदेही से भी हट जाता है.”

विमानन क्षेत्र के एक जानकार सूत्र ने कहा कि घटना की जांच शुरू कर दी गई है.

गोहैन ने कहा, “चालक दल के कर्तव्य निर्वहन में चूक हुई है. दोषी पाए जाने पर उनके लाइसेंस निरस्त हो सकते हैं और वे किसी भी विमानन कंपनी के लिए काम नहीं कर पाएंगे.”

विमान के कुछ यात्रियों ने इस घटना के वीडियो इंटरनेट पर डाले हैं, जिनमें सोनू निगम को विमान की उद्घोषणा प्रणाली पर ‘वीर जारा’ और ‘रिफ्यूजी’ के दो लोकप्रिय गीत गाते देखा जा सकता है.

जेट एयरवेज के फैसले को सोनू ने वास्तविक असहिष्णुता बताया है.

सोनू ने अपने टेक्स्ट मैसेज में कहा, “मैंने एक विमान में उड़ान के दौरान फैशन शो देखा है. मैंने एक विमान में एक छोटा संगीत कार्यक्रम देखा है. मैंने दूसरे देशों में पायलटों और चालक दल के सदस्यों को विमान यात्रियों को चुटकुले सुनाते देखा है, ताकि यात्री तनाव महसूस न करें.”

उन्होंने कहा, “विमान में सीट बेल्ट खोलने की अनुमति वाली अवधि में और जब कोई उद्घोषणा नहीं हो रही हो, तब चालक दल द्वारा मुझे गाने के लिए अनुरोध करने को लेकर उन्हें निलंबित करना किसी को खुशी बिखेरने के एवज में सजा देने से कम नहीं है.”

उन्होंने कहा, “यह दुखद है कि मीडिया के अलावा कोई और इस निष्ठुरता पर सवाल नहीं उठा रहा है. भारत वासियों को थोड़ा सहज होने की जरूरत है. मेरे खयाल से यह वास्तविक असहिष्णुता है.”

Sonu Nigam | Singing for passengers |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!