अगस्ता सौदे की जांच जल्द पूरी हो: सोनिया

नई दिल्ली | समाचार डेस्क: कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कहा अगस्ता सौदे की जांच जल्द पूरी होनी चाहिये. उन्होंने कहा जांच जल्द पूरी होने से सच्चाई सामने आ जायेगी. सोनिया गांधी ने बुधवार अपने उपर राज्यसभा नें लगाये गये आरोप पर कहा कि उन्हें अगस्ता वेस्टलैंड हेलीकॉप्टर सौदे की किसी भी एजेंसी से जांच को लेकर डर नहीं है. सोनिया ने यहां संवाददाताओं से कहा, “हमारे पास छिपाने के लिए कुछ नहीं है. उन्हें मेरा नाम लेने दीजिए, मुझे किसी का डर नहीं है.”

उन्होंने कहा कि कोई भी जांच जल्द से जल्द पूरी होनी चाहिए, ताकि सच्चाई सामने आ सके.


उन्होंने कहा, “आरोप निराधार हैं. सच्चाई जल्द ही सबके सामने होगी. यह उनकी चरित्र हनन की रणनीति का हिस्सा है.”

सोनिया ने सवाल किया कि नरेंद्र मोदी सरकार ने पिछले दो वर्षो के दौरान हुए सौदों की जांच आखिर क्यों नहीं की.

इससे पहले राज्यसभा में अगस्ता वेस्टलैंड हेलीकॉप्टर घोटाले को लेकर भारी हंगामा हुआ, जिसके कारण सदन की कार्यवाही बाधित हुई. हंगामे की शुरुआत भाजपा सदस्य सुब्रह्मण्यम स्वामी द्वारा इस घोटाले में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी का नाम लिए जाने के बाद हुई.

इसका विरोध कर रहे कांग्रेस के सदस्यों ने सभापति से सोनिया का नाम लिए जाने को रिकॉर्ड से बाहर किए जाने की मांग की. स्वामी ने राज्यसभा की कार्यवाही शुरू होते ही यह मुद्दा उठाया.

उन्होंने कहा, “विपक्ष के नेता, मि. मिचेल की मौखिक बातों को आधार बना रहे हैं, लेकिन इटली के उच्च न्यायालय ने मि. मिचेल का लिखित पत्र रिकॉर्ड किया है, जिसमें कहा गया है कि सोनिया गांधी…” स्वामी के इतना कहते ही हंगामा शुरू हो गया, जिसके कारण सदन की कार्यवाही कुछ देर के लिए स्थगित करनी पड़ी.

सदन की कार्यवाही 10 मिनट बाद दोबारा शुरू हुई, जिसमें उपसभापति पी.जे. कुरियन ने कहा कि स्वामी को दूसरे सदन के सदस्य का नाम नहीं लेना चाहिए. इसके बाद उन्होंने सोनिया का नाम सदन के रिकॉर्ड से हटा दिया.

उन्होंने कहा, “आप जानते हैं कि दूसरे सदन के सदस्य का नाम यहां नहीं लिया जाना चाहिए. किसी भी ऐसे सदस्य का नाम नहीं लिया जाना चाहिए, जो यहां आकर अपना बचाव नहीं कर सकता.”

इसके बाद भी हालांकि उपसभापति ने स्वामी को अपनी बात पूरी करने की अनुमति दी, जिसका कांग्रेस सदस्यों ने विरोध किया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!