रमन सिंह पर माकन का हमला

नई दिल्ली | संवाददाता: कांग्रेस पार्टी ने छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह पर करोड़ों के भ्रष्टाचार का आरोप लगाया है. कांग्रेस नेता अजय माकन ने दिल्ली में एक पत्रकार वार्ता में मुख्यमंत्री रमन सिंह, उनकी पत्नी वीणा सिंह और रमन सिंह की साली पर 48 करोड़ के अवैध लेनदेन का आरोप लगाया है. कांग्रेस प्रवक्ता अजय माकन ने कहा, “इस घोटाले की सर्वोच्च न्यायालय की निगरानी में एसआईटी से जांच की हम मांग करते हैं, क्योंकि इस सबसे बड़े पीडीएस घोटाले का सच सामने लाने का यही एक रास्ता है. जांच निष्पक्ष हो, इसके लिए मुख्यमंत्री रमन सिंह को तत्काल मुख्यमंत्री पद से बर्खास्त किया जाए.”

उन्होंने कहा, ” भारत के सबसे बड़े पीडीएस घोटाले का पर्दाफाश छत्तीसगढ़ में हुआ है. छत्तीसगढ़ में रमन सिंह के नेतृत्व वाली भारतीय जनता पार्टी की सरकार ने दिखावे के लिए लोगों को एक रुपये प्रति किलोग्राम चावल उपलब्ध कराने की आड़ में चावल मिलों के मालिकों, पीडीएस दुकानों के मालिकों तथा सरकारी अधिकारियों के साथ मिलीभगत कर भ्रष्टाचार की एक ऐसी मशीन का निर्माण किया, जिसकी मदद से रिश्वत तथा कमीशन के रूप में हजारों करोड़ रुपये की बंदरबांट हुई.”


कांग्रेस नेता ने कहा कि इसी तरह का भ्रष्टाचार राज्य नागरिक आपूर्ति निगम द्वारा अन्य सामानों जैसे नमक, चना, केरोसिन तथा गेहूं की खरीद में किया गया है.

उन्होंने कहा कि घोटाले की भयावहता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि छत्तीसगढ़ में भाजपा के बीते 11 वर्षो के शासनकाल में राज्य नागरिक आपूर्ति निगम द्वारा सरकारी खजाने से धान खरीद तथा विभिन्न पीडीएस वस्तुओं की आपूर्ति में लगभग 1.5 लाख करोड़ रुपये खर्च हुए हैं.

माकन ने कहा, “इस तरह के गठजोड़ से मिल मालिकों तथा राशन दुकानदारों ने निम्न गुणवत्ता के चावल, नमक तथा अन्य वस्तुओं की आपूर्ति कर अवैध फायदा कमाया. इससे मुख्यमंत्री के नेतृत्व में राजनीतिज्ञों तथा अधिकारियों ने अवैध संपत्ति कमाई.”

माकन ने राज्य के बहुचर्चित नान घोटाले के दस्तावेज़ पेश करते हुये कहा है कि इस पूरे मामले में रमन सिंह और उनके परिवार के लोगों को बचाया जा रहा है. माकन ने पूरे मामले की जांच एसआईटी से कराने की मांग की है. उन्होंने कहा कि नागरिक आपूर्ति निगम का पूरा घोटाला 36 हज़ार करोड़ रुपये का है.

गौरतलब है कि नागरिक आपूर्ति निगम के चावल घोटाले में पिछले कुछ महीनों में 17 अफसरों को गिरफ्तार किया गया था और इसमें से अधिकांश अभी भी जेल में हैं.

अजय माकन ने आज नान घोटाले के आरोपी शिवशंकर भट्ट की कथित 113 पेज की डायरी का उल्लेख करते हुये कहा कि एंटी करप्शन ब्यूरो ने डायरी के केवल 6 पन्ने ब्यूरो में सौंपे हैं, जो साफ बताते हैं कि इस मामले में बड़े लोगों को बचाने की कोशिश हो रही है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!