मोदी के अमित भाजपा अध्यक्ष बनेंगे?

नई दिल्ली | संवाददाता: दिल्ली में भाजपा महासचिव अमित शाह के भाजपा अध्यक्ष बनने की अटकलें लगाई जा रही है. बुधवार को पीएमओ में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, अरुण जेटली, राजनाथ सिंह और नितिन गडकरी की बैठक होने के बाद से इस बात के कयास लगायें जा रहें हैं कि अमित शाह के नाम पर करीब-करीब सहमति बन गई है. इस बात की भी संभावना व्यक्त की जा रही है कि संसद के बजट सत्र के पूर्व ही नये भाजपा अध्यक्ष के नाम की घोषणा कर दी जाये.

लोकसभा चुनाव के मतदान के आखिरी चरण के बाद जैसे ही एक्जिट पोल के नतीजे आये इस बात को तय माना जा रहा था कि मोदी ही देश के अगले प्रधानमंत्री बनने वाले हैं. मोदी की कैबिनेट में राजनाथ सिंह के शामिल हो जाने से यह जरूरी हो गया है कि पार्टी को एक पूर्ण कालिक अध्यक्ष की जरूरत है. वैसे मंत्री मंडल गठन के पहले इस बात की गर्मागर्म चर्चा थी कि मोदी अपने खास सिपहसलार अमित शाह को पीएमओ में तैनात करेंगे परन्तु उन्हें मंत्री नहीं बनाने से साफ हो गयचा कि उन्हों भविष्य में पार्टी संगठन में महत्वपूर्ण स्थान से जरूर नवाजा जायेगा.


यह अमित शाह की सांगठनिक क्षमता ही है कि भाजपा को उत्तरप्रदेश से 80 में से 73 सीटें मिली है. गौर करने वाली बात यह है कि मोदी को भाजपा का प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित करते ही अमित शाह को भाजपा का उत्तरप्रदेश का प्रभारी महासचिव बना दिया गया. इसी के साथ अमित शाह को जो मोदी के गुजरात के मुख्यमंत्री बनने से पहले से ही उनके आंख-कान के रूप में जाने जाते थे को उत्तरप्रदेश जैसे अहम राज्य की जिम्मेदारी दी गई. जिसे अमित शाह ने बखूबी निभाया तथा भाजपा को पूर्ण बहुमत दिलवाने में उत्तरप्रदेश से पार्टी की झोली में सबसे ज्यादा लोकसभा की सीटें डाली.

उत्तरप्रदेश की सफलता ने अमित शाह के सांगठनिक क्षमता का लोहा भाजपा तथा संघ दोनों को मनवा लिया. इसी कारण से खबर है कि पहले अमित शाह को भाजपा अध्यक्ष के पद पर लाने के लिये राजी न होने के बावजूद संघ को आखिरकार उनके नाम की सहमति देनी पड़ी. यह और बात है कि अमित शाह के लिये संघ को राजी करवाने में राजनाथ सिंह तथा अरूण जेटली ने पूरी मदद की. इन सबसे अहम बात यह है कि इसी साल महाराष्ट्र, हरियाणा, झारखंड और जम्मू कश्मीर में विधानसभा चुनाव होने हैं ऐसे में पार्टी को एक काबिल नेता की तलाश है. वैसे इस दौड़ में जेपी नड्डा तथा ओम प्रकाश माथुर का भी नाम शामिल है इसके बावजूद माना जा रहा है कि अमित शाह के भाजपा अध्यक्ष बनने की सबसे ज्यादा संभावना है.

अमित शाह को भाजपा अध्यक्ष बनाने में एक बात यह आ रही है कि ऐसे में प्रधानमंत्री तथा पार्टी अध्यक्ष दोनों गुजरात से हो जायेंगे. उसके लिये तर्क दिया गया है कि मोदी तो अब उत्तरप्रदेश से सांसद हैं ऐसे में गुजरात से पार्टी अध्यक्ष बनाने में कोई दिक्कत नहीं होनी चाहिये. अमित शाह को लेकर लगाये जा रहे कयास तभी थमेंगे जब भाजपा के नये अध्यक्ष के नाम की घोषणा होगी. मोदी के स्वभाव से परिचित लोगों का मानना है कि मोदी अपने अमित शाह को भाजपा का अध्यक्ष बनवाने में कोई कसर नहीं छोड़ेंगे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!