भाजपा: बुजुर्गो के बगावती सुर

नई दिल्ली | समाचार डेस्क: भाजपा के बुजुर्ग नेताओं के बगावती सुर के बाद बाद पार्टी ने उऩके सुझाव का स्वागत किया है. मंगलवार को भाजपा के वरिष्ठ नेताओं लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, यशवंत सिन्हा तथा शांता कुमार की ओर से बयान जारी करके बिहार की हार को लेकर नये सवाल खड़े कर दिये. अपने साझा बयान में चारों नेताओं ने कहा है, “ये दर्शाता है कि जो लोग पार्टी की जीत की स्थिति में श्रेय लेते हैं वो शर्मनाक हार की ज़िम्मेदारी लेने से पीछे हट रहे हैं.”

साझा बयान में कहा गया है कि पार्टी को कुछ मुठ्ठी भर लोगों के सामने झुकने के लिये मजबूग कर दिया हया है. इसी के साथ टिप्पणी की गई है कि भाजपा ने दिल्ली की हार से कोई सबक नहीं लिया है.

उल्लेखनीय है कि भाजपा में नरेन्द्र मोदी के उदय के साथ ही लालकृष्ण आडवाणी तथा मुरली मनोहर जोशी जैसे वरिष्ठ नेताओं की पूछपरख कम हो गई है. यहां तक की 2014 के लोकसभा के चुनाव के समय मरली मनोहर जोशी ने अनमने भआव से अपनी पुरानी सीट छोड़ी थी तथा लालकृष्ण आडवाणी की सीट की घोषणा पहले सूची में नहीं की गई थी. बाद में विरोध के स्वर उठने पर उन्हें गुजरात के गांधी नगर की सीट दे दी गई थी.

भाजपा में लालकृष्ण आडवाणी तथा मुरली मनोहर जोशी को पार्टी की संसदीय समिति से हटाकर उन्हें मार्गदर्शक मंडल तक सीमित कर दिया गया है. जाहिर है कि बिहार में भाजपा की बुरी तरह हार के बाद ये अपना तीर छोड़ना न भूले.

इन चारों नेताओं के साझा बयान के बाद भाजपा के तीन पूर्व अध्यक्षों राजनाथ सिंह, नितिन गडकरी तथा वैंकेया नायडू ने भी बयान दिया है कि ‘पार्टी में पहले से ही सामूहिक जिम्मेदारी लेने की परंपरा रही है. हम वरिष्ठ नेताओं के सुझाव का स्वागत करते हैं.’

इसी के साथ भाजपा के इन तीनों पूर्व अध्यक्षों ने अपने बयान में कहा है, ‘हमने सीनियर नेताओं के बयान को पढ़ा. जाहिर तौर पर हम सभी बिहार चुनाव में हुई हार को लेकर संजीदा हैं. पार्टी ने बीते साल नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में लोकसभा चुनाव जीता. इसके बाद पार्टी ने झारखंड, हरियाणा, महाराष्ट्र और जम्मू-कश्मीर के विधानसभा चुनाव में जीत दर्ज की. हाल ही हमने कर्नाटक, महाराष्ट्र, अंडमान, केरल और असम में स्थानीय चुनाव में भी विजय पताका लहराया. बिहार और दिल्ली में नतीजे हमारे खि‍लाफ रहे हैं.’

बयान में आगे लिखा गया है, ‘पार्टी इस हार से उबरने के लिए दूसरे मंचों और वरिष्ठ नेताओं से भी बात करेगी.’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *