जोखर को मिलेगी सजा ए मौत

बॉस्टन: बॉस्टन में बम धमाकों के आरोपी ज़ोख़र सारनाएफ़ पर बड़े विनाश के हथियार इस्तेमाल करने का आरोप लगाए गए हैं. जोखर पर पुलिस ने आरोप तय कर दिये हैं और माना जा रहा है कि इन आरोपों के सिद्ध होने के बाद ज़ोखर को फांसी की सजा दी जा सकती है. फिलहाल जोखर एक अस्पताल में भर्ती हैं.

गौरतलब है कि अमरीका के बॉस्टन में पिछले सोमवार को हुये तीन ब्लास्ट में तीन लोगों की मौत हो गई थी और 175 लोग घायल हो गये थे. उसके बाद से ही दो संदिग्ध लोगों की पुलिस ने तस्वीरें जारी की थीं. धमाकों के आरोपी ज़ोख़र सारनाएफ़ को पुलिस ने तीन दिन पहले गिरफ्तार करने का दावा किया था. 19 साल के ज़ोखर सारनाइफ के बड़े भाई 26 साल के तामेरलेन सारनाइफ को पहले ही इस मामले में एक मुठभेड़ में मार चुकी है. ज़ोखर सारनाइफ को बोस्टन के वाटरटाउन इलाके में एक नाव से गिरफ्तार किया गया था.

चेचन मूल के ज़ोखर सारनाइफ और तामेरलेन सारनाइफ पिछले एक दशक से अमरीका में रह रहे थे. इन दोनों के खिलाफ 2 साल पहले एक देश ने आतंकवादी गतिविधियों में होने की शिकायत की थी लेकिन अमरीका ने अपनी जांच में ऐसा कुछ नहीं पाने के बाद इस मामले की फाइल बंद कर दी थी. बोस्टन में ब्लास्ट की घटना में इन दोनों भाइयों के लिप्त होने की घटना के बाद इन दोनों भाइयों की पुलिस ने तलाश शुरु की. लेकिन ये पकड़ में नहीं आये.

दोनों ने मिलकर एक यूनिवर्सिटी पुलिसकर्मी की गुरुवार को गोली मार कर हत्या कर दी और बाद में पुलिसकर्मियों पर भी विस्फोटक फेके. इसके बाद पुलिस कार्रवाई में तामेरलेन सारनाइफ मारा गया और दूसरा भाई ज़ोखर सारनाइफ भाग निकला था. जिसे बाद में गिरफ्तार कर लिया गया.

ज़ोखर सारनाइफ के खिलाफ न्याय विभाग ने अपने एक वक्तव्य में कहा है कि ज़ोख़र ने न केवल ब़डे विनाश के हथियारों का इस्तेमाल किया बल्कि उन्होंने संपत्ति को नुकसान पहुंचाया जिसकी वजह से 3 लोगों की मौत भी हुई. व्हाइट हाउस के प्रवक्ता जे कार्ने का कहना था कि उन्हें एक शत्रु सैनिक नहीं समझा जाएगा और हम इस आतंकवादी पर न्याय की नागरिक प्रणाली के तहत मुकदमा चलाएंगे.


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *