मुंडे की मौत: जांच सीबीआई के हवाले

मुंबई | समाचार डेस्क: सीबीआई गोपीनाथ मुंडे के मौत की जांच करेगी. केंद्र सरकार ने केंद्रीय मंत्री गोपीनाथ मुंडे की तीन जून को यहां हुई एक सड़क दुर्घटना में मौत की जांच केंद्रीय जांच ब्यूरो से कराने का फैसला किया है. यह जानकारी भारतीय जनता पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने यहां मंगलवार को दी.

भाजपा नेता और महाराष्ट्र विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष एकनाथ खडसे ने यहां एक बयान में कहा, “केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने मंगलवार सुबह फोन कर पिछले सप्ताह मुंडे की मौत की वजह बनी दुर्घटना के बारे में बातचीत की. राजनाथ सिंह ने मुझे बताया कि इस दुर्घटना की जांच सीबीआई करेगी.”

उन्होंने कहा कि राजनाथ सिंह ने उन्हें बताया है कि एक-दो दिनों में सीबीआई को जांच के लिए आधिकारिक आदेश जारी कर दिया जाएगा. गौरतलब है कि सोमवार को खडसे, केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी, भाजपा के महाराष्ट्र प्रदेश अध्यक्ष देवेंद्र फडनवीस एवं अन्य ने राजनाथ सिह से राष्ट्रीय राजधानी में मुलाकात कर मुंडे की मौत की सीबीआई जांच कराने का आग्रह किया था.

इसी के साथ सीबीआई बदायूं रेप केस की भी जांच करने जा रही है. इस सिलसिले में उत्तर प्रदेश सरकार का अनुरोध मिल चुका है और अब वह कार्मिक एवं प्रशिक्षण विभाग से औपचारिक अधिसूचना का इंतजार कर रही है. ज्ञात्वय रहे कि बदायूं रेप केस से उत्तरप्रदेश के अखिलेश सरकार सवालों के घेरे में आ गई है.

गोपीनाथ मुंडे की मौत
महाराष्ट्र के कद्दावर नेता मुंडे पिछले मंगलवार को सुबह अपनी मारुति सुजुकी एसएक्स4 कार से इंदिरा गांधी अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डे की ओर जा रहे थे, जब उनकी कार को रास्ते में एक टाटा इंडिका कार ने सुबह करीब 6.20 बजे टक्कर मार दी. कार ने उसी तरफ टक्कर मारी जिस तरफ मुंडे बैठे थे.

पुलिस ने बताया कि मुंडे कार में पिछली सीट पर बैठे थे और इंडिका की टक्कर से वह सीधे प्रभावित हुए. अचानक हुए इस हादसे से वह हतप्रभ रह गए. दिल के मरीज पहले से थे. उन्होंने पानी मांगा, पीया. उन्हें एम्स के ट्रॉमा सेंटर में ले जाया गया. चिकित्सकों ने वेंटिलेटर का सहारा दिया, 50 मिनट तक प्रयास जारी रखा और हारकर उन्हें मृत घोषित कर दिया.

बदायूं रेप केस
उत्तर प्रदेश के बदायूं में दो नाबालिग लड़कियों के साथ सामुहिक बलात्कार के बाद उन्हें फांसी पर लटका देने की घटना सामने आई थी. इस घटना के बाद सरकार जहां पूरे मामले को दबाने-छुपाने की कोशिश कर रही थी, वहीं मृतकों के परिजनों का आरोप है कि पूरे मामले में बाहुबलि लोगों का हाथ है.

पुलिस के अनुसार उसहैत थाना क्षेत्र के कटरा गांव में दो दलित बहने रात को शौच के लिये गई थीं. 14 और 15 साल की दोनों बहने जब रात को नहीं लौटीं तो परिजनों ने उनकी तलाश शुरु कर दी. लेकिन रात में कहीं भी उनका पता नहीं चला. इसके बाद सुबह उनकी लाश आम के बगीचे में लटकी हुई मिली. गांव वालों का आरोप है कि लड़कियों के साथ कटरा के एक सिपाही और उसके चार दोस्तों ने सामूहिक बलात्कार किया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *