समर्थन वापस लेते ही करुणानिधि के बेटे के घर छापा

चेन्नै | संवाददाता: केंद्र सरकार से समर्थन लेने के साथ ही डीएमके के खिलाफ कार्रवाई शुरु हो गई है. गुरुवार को कर चोरी के एक पुराने मामले में सीबीआई ने चेन्नई में डीएमके में दूसरे सबसे शक्तिशाली नेता समझे जाने वाले एम के स्टालिन के चेन्नई स्थित घर पर छापा मारा है. स्टालिन डीएमकी नेता एम करुणानिधि के बेटे हैं.

केंद्र सरकार से समर्थन वापस लेने के बाद की गई इस छापामारी को लेकर सीबीआई का कहना था कि विदेशी गाड़ियों को बिना कर चुकाये लाने के मामले में स्टालिन के घर छापा मारा गया है. मंगलवार देर रात डीएमके ने यूपीए सरकार से समर्थन वापसी के लिए राष्ट्रपति को चिट्ठी सौंपी थी और बुधवार को उसके पांचों मंत्रियों ने प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को इस्तीफा सौंप दिया था.


इस छापामारी के बाद एमके स्टालिन का कहना है कि डीएमके के सरकार से समर्थन वापस लेने के बाद राजनीतिक बदले की भावना से ये कार्रवाई की गई है. उन्होंने कहा कि उन्हें पता नहीं कि सीबीआई ने उनके घर पर छापा क्यों मारा है. उन्होंने कहा कि वे इस मामले को लेकर अदालत में अपनी लड़ाई जारी रखेंगे. स्टालिन ने कहा कि उन्हें धमकाने की इस तरह की कोशिशें कामय़ाब नहीं होंगी.

कहा जा रहा है कि इस मामले की जांच डीआरआई कर रही थी और उसने सीबीआई से मदद मांगी थी. सीबीआई ने मामला दर्ज कर लिया है लेकिन अभी तक ये साफ़ नहीं है कि इसमें किसका नाम है. इधर इस घटना को डीएमके ने राजनीतिक कदम करार दिया है. डीएमके सांसद टीआरबालू ने कहा कि पार्टी को राजनीति का शिकार बनाया जा रहा है.

टीआर बालू ने कहा कि जिस तरह से स्टालिन को निशाना बनाया गया है, उससे यह समझना मुश्किल नहीं है कि ये पूरी तरह राजनीतिक विद्वेष का मामला है. बालू ने कहा कि अगर केंद्र की सरकार इस तरह से ही अपने को बचाना चाहती है तो यह उनके लिये गलत फैसला है. बालू ने कहा कि मामला अदालत में है और इस तरह से कार्रवाई नकारात्मक संदेश देता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!