अगस्ता के तीर से जोगी का दो निशाना

रायपुर | संवाददाता: जोगी ने अगस्ता घोटाले की जांच का दायरा बढ़ाने के लिये ईडी को पत्र लिखा है. छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री तथा जोगी कांग्रेस के सुप्रीमो अजीत जोगी ने प्रवर्तन निदेशालय को लिखे पत्र में अगस्ता घोटाले की जांच का दायरा छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह तथा उनके परिवार तक बढ़ाने के लिये कहा है. इसी के साथ अजीत जोगी ने सवाल किया है कि छत्तीसगढ़ के नेता प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव ने जो लोक लेखा समिति के अध्यक्ष रहे हैं ने किस आधार पर मुख्यमंत्री को क्लीन चिट दी है.

जाहिर है कि छत्तीसगढ़ की राजनीति की गहरी समझ रखने वाले अजीत जोगी ने इस बहाने कांग्रेस नेता टीएस सिंहदेव पर भी वार किया है. रायपुर के राजनीतिक गलियारे में अजीत जोगी के पत्र को लेकर कयास लगाये जा रहें हैं कि उन्होंने एक तीर से दो निशाने साधे हैं. टीएस सिंहदेव से अजीत जोगी का कांग्रेस में रहते हुये छत्तीस का आकड़ा रहा है.


प्रवर्तन निदेशालय को लिखे पत्र में अजीत जोगी ने छत्तीसगढ़ में हेलीकाप्टर खरीदने के लिये जारी किये गये निविदा पर सवाल उठाते हुये कहा है, “राज्य सरकार ने सेकंड हैंड हेलीकाप्टर नये हेलीकाप्टर के दाम में क्यों ख़रीदा जबकि राज्य सरकार ने साइरस पूनावाला की कंपनी सेरम इंस्टिट्यूट से एक त्रिपक्षीय करार कर लिया था. ग्लोबल टेंडर का औचित्य ही क्या था जबकि निविदा में यह लिख दिया गया था कि कौन से मॉडल की खरीद की जानी है. वित्तीय अनियमिताओं से जुड़े इन सभी प्रमुख बिंदुओं पर जांच होना अनिवार्य है.”

अजीत जोगी ने अगस्ता खरीदी में छत्तीसगढ़ द्वारा दिये गये कमीशन पर सवाल उठाते हुये कहा है, “हेलीकाप्टर खरीदी के सौदे में छत्तीसगढ़ सरकार के प्रभावशाली लोगों की संलिप्तता के तथ्यों का पता लगाने में जुटने के बाद मुझे कुछ सूत्रों से पता चला कि “शार्प ओशन” कंपनी तो 1 अगस्त 2008 को बंद कर दी गयी है. छत्तीसगढ़ सरकार ने “शार्प ओशन” कंपनी को वर्ष 2008 के शुरुआत में पूरा कमीशन दे दिया.” प्रवर्तन निदेशालय को लिखे पत्र में जोगी ने इसके दस्तावेज भी संलग्न किये हैं.

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह के पुत्र पर आरोप लगाते हुये अजीत जोगी ने प्रवर्तन निदेशालय को लिखा है कि “इसके बाद 3 जुलाई 2008 को छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह के पुत्र अभिषेक सिंह की कंपनी “क्वेस्ट हाइट्स लिमिटेड” खोली गयी और इसके उपरान्त शार्प ओशन कंपनी ने कमीशन का पैसा अभिषेक की कंपनी क्वेस्ट हाइट्स में ट्रांसफर किया और अभिषेक सिंह की क्वेस्ट हाइट्स लिमिटेड खुलने के ठीक 27 दिन बाद “शार्प ओशन” कंपनी को बंद कर दिया गया.”

अजीत जोगी ने अगस्ता घोटाले में नेता प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव पर मुख्यमंत्री को क्लीन चिट देने का आरोप लगाते हुये अपने शिकायती पत्र में कहा है, “नेता प्रतिपक्ष की अध्यक्षता वाली लोक लेखा समिति ने जांच के अहम बिंदुओं को न केवल जानबूझ कर नज़रअंदाज़ किया अपितु तीन ऐसी कमजोर सिफारिशें की जिससे इस पूरे मामले में राज्य सरकार को अप्रत्यक्ष रूप से क्लीन चिट मिल जाये. लोकलेखा समिति की इसी रिपोर्ट को आधार मानते हुए 29 अप्रैल 2016 को केंद्र की भाजपा सरकार ने राज्य की रमन सिंह सरकार को यह कहते हुए क्लीन चिट दे दी कि लोकलेखा समिति ने सभी साक्ष्यों एवं बिंदुओं की जांच कर इस मामले को बंद कर दिया था.”

टीएस सिंहदेव पर अगस्ता मामलें को दबाने का आरोप लगाते हुये जोगी ने कहा है, “घोटाला और रिश्वतखोरी होना एक मामला है किन्तु इस पूरे प्रकरण में एक और बिंदु है मामले को दबाने का. किन कारणों से राज्य स्तरीय लोकलेखा समिति ने मुख्यमंत्री को क्लीन चिट दी, इस पूरे मामले में यह भी जांच का अहम बिंदु है जिसकी गहराई से जांच होना आवश्यक है.”

छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी के पत्र से स्पष्ट है कि वे भ्रष्ट्राचार का आरोप मुख्यमंत्री के परिवार के साथ-साथ नेता प्रतिपक्ष पर भी लगा रहें हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!