छत्तीसगढ़: बड़े जोगी जनता दरबार में

रायपुर | संवाददाता: छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी करीब एक माह तक राज्य का तूफानी दौरा करेंगे. अजीत जोगी का मैदानी दौरा जितना सत्ता पक्ष के लिये उत्सुकता से भरा होता है उतना ही उनकी पार्टी के नेताओं के लिये भी चिन्ताजनक रहता है. अजीत जोगी के दौरे के कार्यक्रम से ही संकेत मिल जाता है कि वे उस समय जनता के बीच रहेंगे जब सत्ता-विपक्ष विधानसभा की कार्यवाही में व्यस्त रहेगा.

छत्तीसगढ़ विधानसभा का सत्र 1 मार्च से लेकर 31 मार्च तक चलेगा. इस सत्र में बजट पेश होगा तथा विपक्ष अपने सवालों के घेरें में रमन सरकार को लेने की पूरी कोशिश करेगी. वहीं रमन सरकार विकास के मुद्दे पर बहस को खीचकर लाने की कोशिश करेगी. वर्तमान में भाजपा की यही रणनीति है कि विकास को बहस का मुद्दा बनाया जाये जिससे सरकार का काम जनता को दिखे.

विपक्ष में बैठी कांग्रेस भी अंतागढ़ टेपकांड, किसान आत्महत्या से लेकर हाल ही के सोनी सोरी पर हमलें के मुद्दे को लेकर रमन सरकार को घेरने का प्रयत्न करेगी.

इस बीच बड़े जोगी जनता के बीच जाकर कौन सा मुद्दा उठायेंगे तथा सुर्खियां बटोर ले जायेंगे यह इस पर सस्पेंस दोनों पक्षों के लिये बना रहेगा.

मिली जानकारी के अनुसार अजीत जोगी 25 फऱवरी से लेकर 26 मार्च तक दौरा करेंगे. 25 फरवरी को वे खरसिया, 28 फरवरी को कचना विधान सभा कुरूद, 29 फरवरी को राजनांदगांव, 4 मार्च को राजिम, 7 मार्च को खुज्जी जिला राजनांदगांव, 9-10 मार्च को गरियाबंद, 11 मार्च को गुल्लू विकासखंड आरंग, 18 मार्च को ग्राम बया, बारनावापारा, 26 मार्च को चांपा और रसौटा पामगढ़ के दौरे पर रहेंगे.

वैसे खबर यह भी है कि छत्तीसगढ़ कांग्रेस के अध्यक्ष भूपेश बघेल भी 25 फऱवरी से लेकर 27 फरवरी तक रायगढ़, बिलासपुर तथा बालोद में कई कार्यक्रमों में व्यस्त रहेंगे.

कांग्रेस के रुख से संकेत मिल रहा है कि वे अंतागढ़ टेपकांड में सरकार को घेरने की कोशिश करेंगे. इस बीच अजीत जोगी जनता के बीच अंतागढ़ टेपकांड तथा अमित जोगी के निष्कासन पर कब क्या बोल दे इस पर छत्तीसगढ़ कांग्रेस के संगठन खेमें की सासें अटकी रहेंगी. कुल मिलाकर छत्तीसगढ़ विधानसभा का यह सत्र सदन में तथा मैदान में भी हंगामेदार होने जा रहा है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *