छत्तीसगढ़: EE आलोक अग्रवाल गिरफ्तार

बिलासपुर | संवाददाता: जल संसाधन विभाग के निलंबित प्रभारी ईई आलोक अग्रवाल व उनके भाई पवन अग्रवाल को एसीबी की टीम ने गिरफ्तार कर लिया है. निलंबित ईई आलोक अग्रवाल पर आरोप है कि उन्होंने विभाग में करोडों का घोटाला किया है. उल्लेखनीय है कि 4 जनवरी को जल संशाधन विभाग के छः अफसरों को निलंबित कर दिया गया था.

गौरतलब है कि 4 जनवरी को ही खारंग जल संसाधन संभाग जिला बिलासपुर के सहायक अभियंता आलोक अग्रवाल और उसी जिले के तीन उप अभियंता जी.आर. देवांगन, अबरार बेग और विजय कुमार सिंह ठाकुर को भी निलंबित कर दिया गया था.

निलंबन अवधि में आलोक अग्रवाल का मुख्यालय महानदी परियोजना रायपुर के मुख्य अभियंता कार्यालय में तथा तीनों निलंबित उप अभियंताओं का मुख्यालय महानदी गोदावरी कछार रायपुर के मुख्य अभियंता कार्यालय में निर्धारित किया गया था.

इन सभी प्रकरणों में पीसी एक्ट 1988 के प्रावधानों के तहत प्रकरण दर्ज किए गए थे. निलंबन की कार्रवाई भी छत्तीसगढ़ सिविल सेवा नियम-1966 के तहत की गई है.

ज्ञातव्य है कि छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने भ्रष्टाचार मुक्त प्रशासन देने के लिए जीरो टॉलरेंस की नीति के तहत राज्य के सभी विभागों में भ्रष्टाचार की शिकायतों को तत्काल संज्ञान में लेने के निर्देश दिए हैं और कहा है कि रिश्वत और करोड़ों रूपयों की अनुपातहीन संपत्ति के मामलों में एफ.आई.आर. होते ही आरोपी शासकीय सेवकों को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया जाए.


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *