छत्तीसगढ़: बीफ़ का टेंडर निरस्त

रायपुर | समाचार डेस्क: भिलाई इस्पात संयंत्र ने जू के लिये बीफ़ खरीदने का देंडर निरस्त कर दिया है. उल्लेखनीय है कि एक हिन्दी अखबार में शनिवार को इस बाबत समाचार प्रकाशित हुआ था. खबर थी कि भिलाई संयंत्र के द्वारा संचालित मैत्री बाग जू के बाघों के लिये एक लाख किलो बीफ़ खरीदने का टेंडर जारी हुआ है.

टेंडर के अनुसार दो साल के लिये एक लाख किलो बीफ़ खरीदने के लिये निविदा आमंत्रित की गई थी.

देशभर में बीफ़ पर मचे बवाल के बाद इस पर छत्तीसगढ़ में भी हंगामा संभावित था और शाम होते-होते हुआ भी वही. भाजपा के स्थानीय नेताओं ने इसके खिलाफ़ उग्र आंदोलन की चेतावनी दी थी.

दिनभर के घटनाक्रम के बाद देर शाम भिलाई इस्पात संयंत्र प्रबंधन ने बीफ़ खरीदने का टेंडर ही निरस्त कर दिया. हालांकि, संयंत्र के अधिकारियों ने दावा किया है कि दरअसल में भैंस का मांस खरीदने के लिये निविदा आमंत्रित की गई थी.

बताया जा रहा है कि मैत्री जू के लिये बीफ़ नागपुर से आती थी.

दुर्ग के पुलिस अधीक्षक मयंक श्रीवास्तव ने कहा कि इस तरह से बीफ़ खरीदना गैरकानूनी है इसलिये उसे हटाये. भिलाई इस्पात संयंत्र ने अपनी वेबसाईट से बीफ़ खरीदने का टेंडर हटा दिया है.

बीबीसी के अनुसार इन चिड़ियाघरों में बाघ तथा शेरों को बीफ़ दिया जाता है- बीबीसी ने सेंट्रल ज़ू अथॉरिटी और इंडियन वेटनरी रिसर्च इंस्टीट्यूट के हवाले से बताया कि किन चिड़ियाघरों में बीफ़ दिया जाता है. इसमें मुंबई, पुणे, कर्नाटक, राची, त्रिपुरा, तिरुवनंतपुरम, जयपुर तथा हैदराबाद के चिड़ियाघर शामिल हैं.

तिरुवनंतपुरम चिड़ियाघर
सेपाहिजाला बायोलॉजिकल पार्क, त्रिपुरा
डॉ. शिवराम कारंत बायोलॉजिकल पार्क, पिलिकुला, कर्नाटक
नेहरू जुलॉजिकल पार्क, हैदराबाद
भगवान बिरसा जुलॉजिकल गार्डन रांची
जयपुर चिड़ियाघर
आरजी जुलॉजिकल पार्क पुणे
व्हीजेबी उद्यान मुंबई.

छत्तीसगढ़ में बाघों को बीफ़

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *