10वीं बोर्ड: बेटियां बराबरी पर

रायपुर | संवाददाता: छत्तीसगढ़ दसवीं बोर्ड की परीक्षा में बेटियों ने बाजी मारी. प्रावीण्य सूची में 22 विद्यार्थियों में से 11 बेटियों ने स्थान हासिल की है. रायगढ़ जिले की कुमारी आस्था सतपथी 99 प्रतिशत अंक हासिल कर प्रावीधिक प्रावीण्य सूची में प्रथम स्थान पर रहीं. छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मंडल रायपुर द्वारा 2015 में आयोजित दसवीं कक्षा का परिणाम स्कूल शिक्षा ने लैपटॉप पर बटन दबाकर जारी किया. परीक्षा परिणाम छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मंडल की वेबसाईट डब्ल्यूडब्ल्यूडब्ल्यूडॉट सीजीबीएसईडॉटनेट पर भी उपलब्ध है.

स्कूल शिक्षा मंत्री केदार कश्यप ने दसवीं बोर्ड का परिणाम घोषित करते हुए कहा कि विगत वर्ष 2014 के आयोजित दसवीं बोर्ड की परीक्षा का परिणाम 54 प्रतिशत था. इस वर्ष यह परिणाम 55.23 रहा, जिसमें वर्ष 2015 में 55.36 प्रतिशत बेटियों ने सफलता हासिल की, जबकि 55.08 प्रतिशत बेटों ने दसवीं बोर्ड की परीक्षा में सफलता हासिल की, शामिल है. स्कूल शिक्षा मंत्री श्री कश्यप ने इस परीक्षा में सफलता प्राप्त करने वाले सभी विद्यार्थियों को अपनी शुभकामनाएं दी और उच्च शिक्षा के लिए पुनः मेहनतकर आगे बढ़ने के लिए प्रोत्साहित किया. उन्होंने विद्यार्थियों से कहा कि इस परीक्षा में असफल विद्यार्थी कड़ी मेहनत कर सफल होने का प्रयास करें, ताकि भविष्य में उन्हें असफलता हासिल न हो.


छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मंडल के अध्यक्ष के.डी.पी. राव ने बताया कि हाईस्कूल परीक्षा 2015 का परीक्षाफल पूरे भारत में छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मंडल रायपुर द्वारा सर्व प्रथम घोषित किया गया. उन्होंने कहा कि शिक्षा विभाग के अधिकारी-कर्मचारी, शिक्षक, जिला प्रशासन और मंडल के सदस्यों के सहयोग से यह परिणाम अल्प समय में जारी किया गया.

उन्होंने बताया कि मंडल द्वारा आयोजित दसवीं की परीक्षा में हुई चार लाख 11 हजार 367 विद्यार्थी पंजीकृत हुए थे, जिनमें से चार लाख तीन हजार 762 विद्यार्थी परीक्षा में शामिल हुए. इनमें एक लाख 92 हजार 155 बालक और दो लाख 11 हजार 607 बालिकाएं शामिल हैं.

परिणाम घोषित करने पर 43 हजार 662 परीक्षार्थी प्रथम श्रेणी और 78 हजार 660 द्वितीय श्रेणी में, 96 हजार 565 विद्यार्थी तृतीय श्रेणी में तथा दो हजार 959 विद्यार्थी पास की श्रेणी में उत्तीर्ण घोषित किए गए हैं. 35 हजार 411 परीक्षार्थियों पूरक की पात्रता की सूची में शामिल है.

इसके अलावा 892 परीक्षार्थी के परिणाम रोके गए हैं और एक हजार 210 परीक्षार्थियों के परीक्षा फल निरस्त किए गए हैं. मंडल द्वारा आयोजित हाईस्कूल की पत्रचार पाठ्यक्रम परीक्षा में इस वर्ष 21 हजार 954परीक्षार्थी पंजीकृत हुए, जिनमें 21 हजार 254 परीक्षार्थी परीक्षा में सम्मिलित हुए. इन परीक्षार्थियों में से कुल पांच हजार 362 परीक्षार्थी उत्तीर्ण घोषित किए गए हैं. इनका प्रतिशत 25.52 रहा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!