गोवा को रायगढ़ में कोल ब्लॉक

रायपुर | छत्तीसगढ़ न्यूज डेस्क: अब गोवा सरकार भी छत्तीसगढ़ में कोयला खोदेगी. केन्द्रीय वन एवं पर्यावरण मंत्रालय ने रायगढ़ में गोवा औद्योगिक विकास निगम को आबंटित कोल ब्लॉक में खनन की मंजूरी दे दी है. यह कोल ब्लॉक 3 साल पहले आबंटित किया गया था.

बताया गया कि न सिर्फ गोवा औद्योगिक विकास निगम बल्कि गुजरात खनिज निगम को भी रायगढ़ में कोल ब्लॉक आबंटित किया गया. गोवा की निगम को माइनिंग लीज जारी हो चुकी है. लेकिन पर्यावरण स्वीकृति नहीं मिल पाने के कारण खनन कार्य नहीं शुरू हो पाया था. खनिज विभाग के अवर सचिव संजय कनकने ने कहा कि पर्यावरण स्वीकृति मिलने के बाद राज्य सरकार खनन के लिए लाइसेंस जारी कर सकती है. जबकि गुजरात को अभी पीएल ही जारी किया गया है.


बताया गया कि प्रदेश की करीब दर्जन भर से अधिक कोयला खदान पर्यावरण स्वीकृति के अभाव में शुरू नहीं हो पा रही है. इसमें आ रही दिक्कतों को लेकर पिछले दिनों केन्द्रीय कोयला सचिव ने राज्य के मुख्य सचिव सुनिल कुमार और खनिज विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक भी की थी. खदानें शुरू नहीं हो पाने के कारण दर्जन भर बिजली परियोजनाएं अटकी पड़ी है.

उधर, गोवा सरकार के सूत्रों के मुताबिक सरकारी क्षेत्र की यह कंपनी पिछले तीन बरसों से वन एवं पर्यावरण मंत्रालय की मंजूरी के लिये प्रयासरत थी. इस कोल ब्लॉक से मिलने वाला कोयला 18 सौ मेगावाट विद्युत उत्पादन में इस्तेमाल होने की उम्मीद है. अब छत्तीसगढ़ सरकार से खनन लाईसेंस मिलने के बाद कंपनी इसे मिले 714 हेक्टेयर क्षेत्र में खनन की शुरुआत कर सकेगी.

गोवा सरकार ने गोवा औद्योगिक विकास निगम को इस कोल ब्लॉक से खनन के लिये नोडल एजेंसी बनाया है. गोवा सरकार ने विद्युत उत्पादन का काम के एस के एनर्जी वेंचर्स प्रा.लि. को सौंपा है लेकिन खनिज उत्पादक एजेंसी के बारे में फैसला अभी नहीं किया है. पहले राष्ट्रीय खनिज विकास निगम को खनिज उत्पादक एजेंसी नियुक्त कर चुकी गोवा सरकार के सूत्रों का कहना है, कि गोवा औद्योगिक विकास निगम ने एनएमडीसी से इस बारे में संपर्क किया है लेकिन उसे अभी तक कंपनी से कोई जवाब नहीं मिला है, जिसे देखते हुए मुमकिन है सरकार अब किसी नई एजेंसी की नियुक्ति करे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!