छत्तीसगढ़: 1cr मीटर कपड़ा बुना

रायपुर | संवादादाता: छत्तीसगढ़ के बुनकरों ने इस साल करीब एक करोड़ मीटर सूती कपड़ा बुकर रिकॉर्ड बनाया है जबकि पिछले 11 सालों में 94 लाख मीटर कपड़ा बुना था. राज्य और देश की अर्थव्यवस्था के विकास में छत्तीसगढ़ के हाथकरघा बुनकर भी महत्वपूर्ण योगदान दे रहे हैं. छत्तीसगढ़ में इन बुनकरों ने इस बार कमाल कर दिखाया है.

चालू वित्तीय वर्ष 2014-15 में राज्य में अब तक हाथ करघा बुनकरों द्वारा एक करोड़ 08 लाख मीटर सूती कपड़े तैयार किए जा चुके हैं, जबकि वर्ष 2004-05 में केवल 13 लाख 40 हजार मीटर हाथ करघा वस्त्रों का उत्पादन हुआ था.

इस प्रकार ग्यारह वर्षों में राज्य में लगभग 94 लाख मीटर हाथ करघा कपड़ों का उत्पादन किया गया. ये कपड़े हाथ करघा बुनकरों की सहकारी समितियों में तैयार किए गए. चालू वर्ष 2014-15 में इन समितियों के माध्यम से बुनकरों द्वारा 31 जनवरी 2015 तक तैयार एक करोड़ 08 लाख मीटर कपड़ों की कीमत लगभग 61 करोड़ 11 लाख रूपए है. वर्ष 2004-05 में केवल चार करोड़ 34 लाख रूपए के हाथ करघा कपड़े तैयार किए गए थे.

विगत ग्यारह वर्ष की अवधि में राज्य में हाथ करघा बुनकर सहकारी समितियों की संख्या 60 से बढ़कर 234 और उनके सदस्यों की संख्या बारह हजार से बढ़कर लगभग 60 हजार तक पहुंच गयी है. इन समितियों में लगभग 20 हजार हाथ करघों पर बुनकरों द्वारा कपड़े बनाये जा रहे हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *