छत्तीसगढ़: उल्टी-दस्त से मौतें

अंबिकापुर | संवाददाता: छत्तीसगढ़ के सरगुजा में उल्टी-दस्त से सात लोगों की मौत हो गई है. मैनपाट के असगवां गांव में चार तथा जशपुर जिले के बगीचा में तीन मौतें हुई हैं. इऩमें से एक पहाड़ी कोरवा जनजाति का था. बरसात के मौसम के चलते हुई इन मौतों को चिकित्सीय सहायता से रोका या कम किया जा सकता था परन्तु झोलाछाप डॉक्टरों के चंगुल में फंसे ग्रामीण आखिरकार मौत के मुंह में समा गये.

कई दिनों से मैनपाट के असगवां में फैले उल्टी-दस्त के बाद स्वास्थ्य विभाग जागा है. स्वास्थ्य विभाग का अमला बुधवार को यहां पहुंचा. वहीं, शासकीय चिकित्सालय कमलेश्वर स्वास्थ्य केन्द्र में चिकित्सक के न होने पर ग्रामीणों में रोष व्याप्त है.

मैनपाट के असगवां में उल्टी-दस्त से मरने वालों में 50 वर्षीय टोपी मझवार, 45 वर्षीय घोरटु राम, 35 वर्षीय दगदीर तथा 6 वर्षीय काना शामिल हैं.

जशपुर के बगीचा क्षेत्र में भी उल्टी-दस्त का प्रकोप जारी है. यहां पर रहने वाले पहाड़ी कोरवा में से पांच लोग उल्टी-दस्त से पीड़ित हैं. जिसका मुख्य कारण साफ पीने के पानी का न होना तथा विषाक्त भोजन करना है.

बगीचा के महुआ गांव में रहने वाले 18 वर्षीय पहाड़ी कोरवा जनजाति का युवक विनोद राशन लेने गया हुआ था. रास्ते में ही उल्टी-दस्त शुरु हो गया. जिससे घर पहुंचते ही उसकी मौत हो गई.

जशपुर कलेक्टर प्रियंका शुक्ला, बगीचा एसडीएम राजेन्द्र कुमार कटारा तथा जिला चिकित्सा अधिकारी बीबी बोर्डे ने प्रभावित गांव पहुंचकर मृतक पहाड़ी कोरवा के परिजनों से मुलाकात की.

गौरतलब है कि पिछले कुछ दिनों में बगीचा के बोड़पहरी गांव में उल्टी-दस्त से छः लोगों की जाने जा चुकी हैं जिसमें से तीन एक ही परिवार से हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *