छत्तीसगढ़ के 328 बस्तियों में खराब पानी

रायपुर | संवाददाता: छत्तीसगढ़ के 328 बसाहटो के पानी में फ्लोराइड की मात्रा मानक से ज्यादा पाई गई है. इस प्रकार से इन बसाहटों में पीने के पानी की समस्या है. गौरतलब है कि विस्व स्वास्थ्य संगठन के मानकों के अनुसार 1 लीटर पीने के पानी में फ्लोराइड की मात्रा 1.5 मिलिग्राम तक ठीक है. जांच में जब इसकी जानकारी मिली तो छत्तीसगढ़ शासन के लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग ने इनमें से 327 बसाहटों में फ्लोराइड निवारण संयंत्रों की स्थापना की है.

उल्लेखनीय है फ्लोराइड की मात्रा पीने के पानी में ज्यादा होने से मानव शरीर को गंभीर परिणाम भुगतने पड़ते हैं. इससे मनुष्य की स्नायु तंत्र तथा दिमाग पर विपरीत प्रभाव पड़ता है. फ्लोराइड का दुष्परिणाम कई अवसरों पर 20 साल बाद पता चलता है.


गौरतलब है कि छत्तीसगढ़ शासन के लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग ने फ्लोराइड प्रभावित बसाहटों में लोगों को स्वच्छ और सुरक्षित पेयजल मुहैया कराने के लिए 227 फ्लोराइड निवारण संयंत्रों की स्थापना की है. विभाग द्वारा छत्तीसगढ़ के भू-जल स्रोतों में फ्लोराइड की मात्रा की जांच के लिए 26 जिला स्तरीय प्रयोगशालाएं स्थापित की गई है. इन प्रयोगशालाओं में तीन वर्षों में भू-जल स्रोतों के 56 हजार 388 नमूनों का परीक्षण किया गया है.

छत्तीसगढ़ के 328 बसाहटों के नमूनों में फ्लोराइड की अधिकता पाई गई है. फ्लोराइड प्रभावित बसाहटों में लोगों को पीने का साफ पानी मुहैया कराने के लिए विभिन्न योजनाओं के क्रियान्वयन में राज्य शासन ने वित्तीय वर्ष 2012-13 में पांच करोड़ 62 लाख रूपए से अधिक की राशि खर्च की है.

छत्तीसगढ़ के 26 जिलों में स्थापित जिला स्तरीय प्रयोगशालाओं में जशपुर जिले में सात हजार 541, जिला अंबिकापुर में पांच हजार 495, जिला सुकमा में पांच हजार 102, जिला दुर्ग में चार हजार 292, जिला राजनांदगांव में तीन हजार 754, जिला रायपुर में तीन हजार 386, जिला नारायणपुर में तीन हजार 365 और जिला कबीरधाम में तीन हजार 253 जल स्रोतों के नमूनों का परीक्षण किया गया है.

जिला कोरबा में दो हजार 711, जिला धमतरी में दो हजार 431, जिला बिलासपुर में दो हजार 258, जिला बीजापुर में एक हजार 876, जिला कोरिया में एक हजार 788, जिला दंतेवाड़ा में एक हजार 731, जिला कांकेर में एक हजार 466, जिला रायगढ़ में एक हजार 387, जिला बस्तर में एक हजार 79, जिला जांजगीर-चांपा में 922, जिला बलरामपुर-रामानुजगंज में 547, जिला गरियाबंद में 500, जिला बेमेतरा में 420, जिला महासमुंद में 388, जिला मुंगेली में 373, जिला बालोद में 183 और जिला सूरजपुर में 144 नमूनों में फ्लोराइड की मौजूदगी का परीक्षण किया जा चुका है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!