गौरांग की मौत कैसे हुई?

बिलासपुर | संवाददाता: छत्तीसगढ़ के बिलासपुर के 24 वर्षीय गौरांग बोबडे की मौत का रहस्य गहरा गया है. गौरांग की लाश रामा मैग्नेटो मॉल के सीढ़ियों के नीचे मिली जहां सीसीटीवी कैमरे नहीं गये हुये थे. बार के बाउंसर उसकी लाश को अस्पताल पहुंचाकर चले जाना चाहते थे परन्तु डॉक्टर ने पुलिस को इत्तिला दे दी. वहीं गौरांग के परिजनों का आरोप है कि गौरांग की हत्या की गई है.

गौरांग के मुंह, पीठ तथा हाथ पर लगी चोट से जाहिर होता है कि वह सीढ़ियों से नहीं गिरा बल्कि उसके साथ मारपीट की गई है. सीढ़ियों से गिरने से अलग तरह से चोट लगती है.


गौरांग के पिता ने सीधे उसके रईस दोस्तों पर आरोप लगाया है. उनका कहना है कि हाई प्रोफाइल लोगों के जुड़े होने के कारण पुलिस केस को दबा रही है. वहीं गौरांग की नागपुर से आई बहन ने विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को ट्वीट करके मामले की जानकारी दी है. उसका भी कहना है कि उसके भाई को मारा गया है. उसकी मौत सीढ़ियों से गिरकर नहीं हुई है.

गौर करने वाली बात है कि गौरांग की लाश ठीक उस जगह पर मिली जहां रामा मैग्नेटो मॉल में सीसीटीवी कैमरे नहीं लगे हुये हैं. गौरांग को छोड़कर उसके साथियों का भाग जाना भी कई सवाल खड़े करता है कि आखिर वहीं पर क्या हुआ था. पुलिस को सूचना न देना तथा देर से उसे अस्पताल पहुंचाना भी संदेह के घेरे में है.

गौरांग का दाई आंख सूजा हुआ दिखाई दे रहा है. ऐसा मुक्का मारने से ही होता है. सीने तथा पीठ पर चोट के निशान पाये गये हैं.

गौरांग के साथ उसके दोस्त किंशुक अग्रवाल, करण जायसवाल, करण खुशलानी तथा अँकित मलहोत्रा थे. पार्टी कैलिफोर्निया से आये उनके दोस्त कबीर अरोरा ने रखी थी. गौरांग को बुलाने घर उसका दोस्त अर्जुन आया था.

रात 2.20 बजे सीसीटीवी कैमरे में गौरांग, करण जायसवाल, किंशुक अग्रवाल, अंकित, करण खुशलानी के साथ बाहर निकलता दिख रहा है. रात के 3.10 बजे गौरांग को लेकर टीडीएस बार के चार बाउंसर जिला अस्पताल गये थे.

गौरांग के दोस्तों का कहना है कि उसकी मौत सीढ़ियों से गिरकर हुई है. उधर इस बात का भी अंदेशा है कि कहीं बार के बाउंसरों ने उसके साथ मारपीट तो नहीं की है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!