छत्तीसगढ़ में भी लगेगा FAT TAX

रायपुर | संवाददाता: छत्तीसगढ़ में भी जल्दी ही मोटापा रोकने जंक फूड पर ‘फैट टैक्स’ लग सकता है. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार छत्तीसगढ़ का स्वास्थ्य विभाग इस मामलें में एक मसौदा पहले ही तैयार कर चुका है. उल्लेखनीय है कि केरल में हाल ही में इस तरह का टैक्स लगाया गया है ताकि लोगों को वजन बढ़ाने वाले जंक फूड खाने से रोका जा सके. जाहिर है कि मूल्य बढ़ने से खपत कम हो जाती है.

आजकल, देशभर में लाइफ स्टाइल डिसीज बढ़ते जा रहें हैं. ऐसे रोग जो आधुनिक जीवन शैली के कारण हो रहें हैं उन्हें लाइफ स्टाइल डिसीज कहा जाता है.

मुख्यतः ज्यादा चर्बी वाला भोजना करना तथा कम शारीरिक काम करने से यह रोग होता है. इसमें हृदय रोग तथा मधुमेह प्रमुख है. आगे चलकर इन दोनों रोगों के कारण किडनी तथा आंखों की बीमारी भी हो जाती है. उच्च रक्तचाप के कारण स्ट्रोक होना आम बात है.

उल्लेखनीय है कि एक साल के भीतर छत्तीसगढ़ के गैर संचारी रोगों से संबंधित चिकित्सा केंद्रों में ही मधुमेह के रोगियों की संख्या जिस तेज़ी से बढ़ी है, वह चौंकाने वाला है.

स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों के अनुसार देश के लगभग 8 फीसदी नए मधुमेह रोगी अकेले छत्तीसगढ़ में मिले हैं. मधुमेह की तेज़ रफ्तार ने छत्तीसगढ़ को पूरे देश में इस बारे में पहले नंबर पर खड़ा कर दिया है.

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार 2014-15 के 12 महीनों में छत्तीसगढ़ में गैर संचारी रोगों से संबंधित चिकित्सा केंद्रों में जांच के दौरान 11,867 मधुमेह के रोगियों की पहचान की गई थी.

वर्तमान में जंक फूड पर 14.5% वैट टैक्स लगता है.

मिली जानकारी के अऩुसार मौजूदा वैट टैक्स को बढ़ाया जा सकता है. इसके अलावा स्वास्थकर खाने पर टैक्स कम किया जा सकता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *