‘रईस अफसर’ के खिलाफ अनुमति चाही

रायपुर | समाचार डेस्क: छत्तीसगढ़ सरकार ने आईएफएस राजेश चंदेला के खिलाफ केस चलाने अनुमति मांगी है. छत्तीसगढ़ सरकार ने वन विभाग के ‘रईस अफसर’ राजेश चंदेला के खिलाफ अभियोजन दायर करने केन्द्र सरकार से अनुमति मांगी है. उल्लेखनीय है कि मरवाही के डीएफओ रहते उऩके यहां एंटी करप्शन ब्यूरो ने छापा मारा था. उस छापे में करोड़ों की बेनामी संपत्ति का खुलासा हुआ था.

7 जुलाई 2015 को एंटी करप्शन ब्यूरो ने राज्य सरकार से राजेश चंदेला के खिलाफ अभियोजन चलाने की अनुमति मांगी थी. उल्लेखनीय है कि मरवाही के बाद सुकमा के डीएफओ रहते हुये राजेश चंदेला ने सरकारी आवास में निजी स्वीमिंग पूल बनवा लिया था. उसके बाद से लोग उन्हें स्वीमिग पूल वाले साहब कहने लगे थे. हाल ही में उनको छत्तीसगढ़ विधानसभा के मानसून सत्र के पहले रायपुर मुख्यालय में अटैच कर दिया गया था.


सुकमा में वन विभाग के इस अफसर ने बिना किसी अनुमति के सरकारी बंगले में 10 लाख रुपयों का स्वीमिंग पूल बना लिया था. एक तरफ छत्तीसगढ़ सूखे की चपेट में था तो वन विभाग का यह ‘रईस’ अपने बंगले में ठंडे पानी में गोते लगा रहा था.

एक तरफ छत्तीसगढ़ के लोग पानी के लिये तरस रहे थे तो यह महाशय अपने बंगले में हजारों लीटर पानी को नहाने के लिये इस्तेमाल कर रहे थे. कहते हैं कि भ्रष्ट्राचार का पैसा इसी तरह से ‘रईसी’ में उड़ा दिया जाता है. मेहनत के पैसों से तो रोटी-कपड़ा और मकान का जुगाड़ करते-करते आदमी बूढ़ा हो जाता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!