छत्तीसगढ़ में जन-धन योजना दूर की कौड़ी

रायपुर | संवाददाता: प्रधानमंत्री जन-धन योजना के तहत छत्तीसगढ़ में रोज 35हजार बैंक खाते खोलने पड़ेंगे. गौरतलब है कि शनिवार को छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह की अध्यक्षता में रायपुर में बैठक हुई जिसमें तय किया गया कि तीन माह में 25 लाख परिवारों के बैंक खाते खोले जायेंगे. छत्तीसगढ़ सरकार की विज्ञप्ति में कहा गया है कि, ” बैठक में बताया गया कि राज्य के 56 लाख परिवारों में से 31 लाख परिवारों के खाते विभिन्न योजनाओं के तहत खोले जा चुके हैं. अब शेष 25 लाख परिवारों के खाते प्रधानमंत्री जन-धन योजना के तहत खोलने का लक्ष्य है. योजना लगभग तीन महीने पहले 28 अगस्त को शुरू हुई थी. इसके तहत प्रदेश में शिविर लगाकर भी बड़ी संख्या में खाते खोले गए हैं. शेष रह गए परिवारों का खाता खोलने के लिए राज्य शासन के सहयोग से अभियान चलाया जा रहा है.”

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने सभी संबंधित बैंकों को प्रधानमंत्री जन-धन योजना के तहत दिसम्बर 2014 के अंत तक छत्तीसगढ़ के प्रत्येक जरूरतमंद परिवार का बैंक खाता खोलने का लक्ष्य दिया है. जाहिर है कि नवंबर माह के 22 तारीख की बैठक में कहा जाता है कि वर्ष के बचे हुए करीब ढाई माह में 25लाख बैंक खाते खोलने हैं. जिसका अर्थ होता है कि बचे हुए करीब 70 दिनों में इस लक्ष्य को प्राप्त किया जाये.


दिसंबर 2014 तक बैंकों तथा सरकारी अमले के पास 70 दिन शेष बचे हैं जिसमें उन्हें अपने लक्ष्य को पूरा करना है. जिसका अर्थ होता है कि यदि 25लाख परिवारों का बैंक खाता खोलना है तो प्रतिदिन 35हजार 714 परिवारों के बैंक खाते खोलने पड़ेगे.

बैठक में छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि छत्तीसगढ़ में प्रत्येक एक हजार वर्ग किलोमीटर में 15 बैंक हैं, जबकि राष्ट्रीय औसत 35 बैंकों का है. इसे देखते हुए सभी राष्ट्रीकृत बैंकों को राज्य के विभिन्न जिलों में अपनी शाखाओं का अधिक से अधिक संख्या में विस्तार करना चाहिए.

 क्या है प्रधानमंत्री जन-धन योजना
इस योजना के तहत हर घर में दो बैंक खाता खोला जाएगा तथा एक लाख रूपए का दुर्घटना बीमा सहित रूपये डेबिट कार्ड की सुविधा प्रदान किया जाएगा. 1 वर्ष तक खाते के संतोषप्रद संचालन के पश्चात हर परिवार की महिला को 5 हजार रूपए तक की ओवरड्राफ्ट की सुविधा होगी. हितग्राहियों को सरकारी योजनाओं की राशि सीधे खाते में मिलेगा तथा पेंशन, बीमा का लाभ व जीरो बैंलेस पर एकाउंट खोला जाएगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!