हादसे के बाद सबक की जरूरत

कोरबा | अब्दुल असलम: छत्तीसगढ़ के कोरबा के मानिकपुर क्षेत्र में एक कोयला चोर की मलबे में दबकर मौत हो गई है. ओवर बर्डन क्षेत्रों में कोयला चोरी रोकने एसईसीएल को गंभीरता दिखाए जाने की जरूरत है. अन्यथा पिछले दिनों हुई हादसे की पुनरावृत्ति होती रहेगी. हादसे के बाद जो माहौल बना वह किसी भी तरह से उचित नहीं था. ओवर बर्डन क्षेत्रों में कोयला चोरी रोकना प्रबंधन के लिए कड़ी चुनौती है.

एसईसीएल को हादसे से सबक की जरूरत है. ओवर बर्डन क्षेत्र मानिकपुर में कोयला चोरी करते समय कौशिक श्रीवास नामक युवक मलबे में दबकर चार दिनों से लापता था. जिसकी खोजबीन के लिए एसईसीएल को अन्य उपक्रमों की मदद से रेस्क्यू आपरेशन चलाना पड़ा. अंतत: चार दिन बाद लापता कौशिक का शव पोखरी से बाहर निकाला जा सका.

इस घटनाक्रम के बाद परिजनों व ग्रामीणों ने ओवर बर्डन क्षेत्र में धरना प्रदर्शन किया. डिप्टी जीएम कार्यालय का घेराव कर दिया. चार दिनों तक शव नहीं मिलने से एसईसीएल के अधिकारियों के माथे पर बल पड़ गया था. ग्रामीण व परिजन लगातार प्रबंधन पर दबाव बना रहे थे. ऐसे में लाश बरामद कर ली गई. एसईसीएल ने मृतक के किसी भी परिजन को नौकरी देने से इनकार कर दिया है. मुआवजा को लेकर भी कई तरह की बात कही जा रही है.

ओवर बर्डन क्षेत्र में कोयला चोरी आम हो चुकी है. एसईसीएल को अब इस पर सख्ती से कार्रवाई करने की जरूरत है. अन्यथा भविष्य में इस तरह की घटना में लोगों की जान तो जा ही सकती है, इसके बाद उत्पन्न स्थिति शांतिप्रिय नहीं रहेगी. कोयला चोरी से मौत हो रही है. जिससे परिजनों को अकाल परिवार के सदस्य को खोना पड़ रहा है. भविष्य में ऐसा न हो, इसके लिए एसईसीएल सख्ती बरते अन्यथा हादसे की पुनरावृत्ति कोई भी नहीं रोक सकता.


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *