37वें राष्ट्रीय खेल का पृथक सचिवालय

रायपुर | समाचार डेस्क: छत्तीसगढ़ में होने वाले 37वें नेशनल गेम्स की तैयारी पृथक सचिवालय करेगा. उल्लेखनीय है कि 2017 में होने वाले नेशनल गेम्स के लिये छत्तीसढ़ का चुनाव किया गया है. इसलिये छत्तीसगढ़ सरकार इसके लिये आवश्यक इंफ्रास्ट्रकचर को समय पर पूरा करने के लिये तथा भारतीय ओलंपिक संघ के साथ बेहतर समन्वय के लिये एवं विभिन्न सरकारी विभागो तथा संस्थाओँ में तालमेल के लिये छत्तीसगढ़ में पृथक सचिवालय की स्थापना करने जा रही है. इस सचिवालय में 52 अफसर तथा कर्मचारियों की नियुक्ति की जायेगी. यह सचिवालय एक नोडल एजेंसी के रूप में कार्य करेगा.

गोरतलब है कि पिछले दिनों भारतीय ओलिंपिक संघ के चार सदस्यीय समिति से मुलाकात बाद छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह ने राज्य में 37वें नेशनल गेम्स के आयोजन की घोषणा की थी. नेशनल गेम्स के मुकाबले रायपुर के अलावा दुर्ग, भिलाई, राजनांदगांव और बिलासपुर में खेले जाएंगे. आयोजन में निजी और सार्वजनिक उपक्रमों की भी मदद ली जाएगी. रमन सिंह ने कहा था कि नेशनल गेम्स के लिए पैसे के आवंटन में किसी तरह की कमी नहीं होगी. ओलिंपिक संघ की ओर से मिलने वाले सुझाव के अनुसार खेल सुविधाओं को डेवलप किया जाएगा.

पिछले दिनों भारतीय ओलिम्पिक संघ, नई दिल्ली का प्रतिनिधि मण्डल 37वें नेशनल खेल की तैयारियों का जायजा लेने के लिए छत्तीसगढ़ के दौरे पर आया था. छत्तीसगढ़ आये भारतीय ओलिम्पिक संघ के संयुक्त सचिव डॉ. एसएम बाली के नेतृत्व में आए दल ने दो दिनों तक अलग-अलग शहरों का दौरा कर उपलब्ध खेल सुविधाओं का जायजा लिया था. अब भारतीय ओलंपिक संघ अपनी रिपोर्ट तैयार करेगा. रिपोर्ट में विभिन्न खेलों के लिए छत्तीसगढ़ के अलग-अलग शहरों में कितने अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर इंफ्रास्ट्रक्चर हैं और कितने की जरूरत है, इसका उल्लेख किया जाएगा. रिपोर्ट के आधार पर यह सचिवालय जरूरी नए इंफ्रास्ट्रक्चर तैयार कराने, जहां आयोजन सुविधा मौजूद है, उसे अपग्रेड कराने, खिलाड़ियों के लिए जरूरी सुविधाएं मुहैया कराने जैसे कार्य करेगा.

छत्तीसगढ़ में यह आयोजन 10 दिनों के लिये होगा जिसमें 28 खेल होंगे. जिसके लिये 11 आउटडोर, 15 इनडोर स्टेडियम और 2 वॉटर स्पोर्ट्स की सुविधाओं वाले खेल परिसल की आवश्यकता होगी.

उल्लेखनीय है कि भारत में नेशनल गेम्स की शुरुआत 1940 में बंबई से हुई थी. इससे पहले इस खेल को भारतीय ओलंपिक खेल के नाम से 1924 में प्रारंभ किया गया था जो लाहौर में हुआ था. यह हर दो साल में एक बार होता है जिस साल ओलंपिक तथा एशियन गेम्स न हो. इसमें कबड्डी, खो-खो, तीरंदाजी, हॉकी, तैराकी जैसे खेल शामिल होते हैं. इसे दरअसल, ओलंपिक खेलों के अनुसार आयोजित किया जाता है. छत्तीसगढ़ के पहले 36वां नेशनल गेम्स गोवा में, 35वां नेशनल गेम्स केरल में तथा 34वां नेशनल गेम्स रांची में हो चुका है. छत्तीसगढञ में होने वाले 37वें नेशनल गेम्स के बाद 378वां तथा 39वां नेशनल गेम्स उत्तराखंड एवं हरियाणा में होगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *