नक्सल इलाकों में 1970 किलोमीटर सड़क निर्माण

रायपुर | संवाददाता: छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित जिलों में एक हजार 970 किलोमीटर की 49 सड़कों का निर्माण किया जायेगा. इन सड़कों के लिए विशेष कार्ययोजना के तहत दो हजार 719 करोड़ 63 लाख रूपए मंजूर किए गए हैं. पिछले वित्तीय वर्ष 2012-13 के विभागीय प्रशासकीय प्रतिवेदन के अनुसार विभाग द्वारा इनमें से नौ सड़कों का निर्माण पूर्ण कर लिया गया है, जिनकी लागत 199 करोड़ 83 लाख रूपए है.

राज्य सरकार ने अविभाजित सात जिलों-सरगुजा, राजनांदगांव, उत्तर बस्तर (कांकेर), नारायणपुर, बस्तर (जगदलपुर), दक्षिण बस्तर (दंतेवाड़ा) और बीजापुर जिलों को सड़क निर्माण को नक्सल प्रभावित क्षेत्रों की विशेष योजना (एल डब्लयू ई) योजना में शामिल करने का प्रस्ताव केन्द्र को भेजा था. केन्द्र ने राज्य के इस प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया है और देश के जिन 33 जिलों को नक्सल समस्या के उन्मूलन तथा अधोसंरचना विकास के लिए चिन्हांकित किया गया है, उनमें छत्तीसगढ़ के ये जिले में शामिल किए गए हैं.
लोक निर्माण मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने बताया कि नक्सल प्रभावित क्षेत्र विशेष योजना के तहत राज्य शासन के प्रस्ताव पर सरगुजा जिले की सोलह सड़कों लम्बाई 629.65 किलोमीटर एवं एक वृहद पुल, राजनांदगांव जिले की तीन सड़कों लम्बाई 54.50 किलोमीटर, उत्तर बस्तर (कांकेर) जिले की पांच सड़कों लम्बाई 210.40 किलोमीटर, कोण्डागांव जिले की एक सड़क लम्बाई 29.85 किलोमीटर, नारायणपुर जिले की तीन सड़कों लम्बाई 152 किलोमीटर, बस्तर (जगदलपुर) जिले की तीन सड़कों लम्बाई 32.10 किलोमीटर, दक्षिण बस्तर (दंतेवाड़ा) जिले की चार सड़कों लम्बाई 188 किलोमीटर, बीजापुर जिले की सात सड़कों लम्बाई 349.50 किलोमीटर तथा सुकमा जिले की चार सड़कों लम्बाई 324.93 किलोमीटर के उन्नयन की स्वीकृति दी गई है. उन्नयन कार्य के तहत इन सड़कों को और अधिक मजबूत बनाकर टू लेन किया जाएगा. इन सड़कों में पड़ने वाले पुल-पुलियों को भी नये सिरे से बनाया जाएगा.


विशेष योजना के तहत स्वीकृत 49 में से नौ सड़कों का निर्माण पूरा कर लिया गया है. इनमें सरगुजा जिले के प्रतापपुर-भैयाथान मार्ग लागत 33 करोड़ 45 लाख रूपए, बलरामपुर-चांदो-सामरी मार्ग लागत 35 करोड़ 80 लाख रूपए, लटोरी-कल्याणपुर-दरिमा-सलका मार्ग लागत 40 करोड़ 70 लाख रूपए, अंबिकापुर-रामानुजगंज मार्ग लागत 37 करोड़ चार लाख रूपए तथा पटना-भैयाथान मार्ग लागत 22 करोड़ 87 लाख रूपए, राजनांदगांव जिले के कहडबरी-लोहत्तर मार्ग लागत चार करोड़ 91 लाख रूपए, धनोरा-मुरूमगांव मार्ग लागत आठ करोड़ 52 लाख रूपए, बस्तर जिले के राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक 16 के किलोमीटर 492 से 504 लागत दस करोड़ 64 लाख रूपए तथा राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक 221 किलोमीटर 15/4 से 25/4 (जगदलपुर-कोंटा मार्ग) शामिल हैं. इसके अलावा 21 कार्य प्रगति पर हैं. स्वीकृत शेष 17 कार्यों के लिए निविदा की कार्रवाई जारी है.

सरगुजा जिले के कुसमी-सामरी मार्ग लम्बाई 17 किलोमीटर, प्रतापपुर-समरसोत मार्ग लम्बाई 38 किलोमीटर, बलरामपुर-चांदो-सामरी मार्ग लम्बाई 26 किलोमीटर, वाड्रफनगर-जनकपुर-बलांगी मार्ग लम्बाई 50 किलोमीटर, कमलेश्वर नगर-रामचन्द्रपुर-लुरगी मार्ग लम्बाई 48 किलोमीटर, राजपुर-कुसमी मार्ग लम्बाई 60 किलोमीटर, तारा-प्रेमनगर-रामानुजनगर-कृष्णापुर मार्ग लम्बाई 63 किलोमीटर, विष्णुपुर-सूरजपुर-ओड़गी मार्ग लम्बाई 88 किलोमीटर तथा सोनतराई-मैनपाट मार्ग लम्बाई 28 किलोमीटर, दरिमा-मैनपाट लम्बाई 23 किलोमीटर का निर्माण कार्य जारी है.

इसके अलावा राजनांदगांव जिले के खैरागढ़-लांजी मार्ग लम्बाई 36.40 किलोमीटर, उत्तर बस्तर (कांकेर) जिले के कोयलीबेड़ा-प्रतापपुर मार्ग लम्बाई 31 किलोमीटर, छोटे बिटिया-रेंगावाही-तारावाकी मार्ग लम्बाई 36 किलोमीटर, अंतागढ़ – बेड़मा मार्ग लम्बाई 35 किलोमीटर, कलगांव-कोयलीबेड़ा मार्ग लम्बाई 16.60 किलोमीटर, भानुप्रतापुर-पंखाजूर-बांदे पी.व्ही. 109 मार्ग लम्बाई 91.60 किलोमीटर, नारायपणुर जिले के नारायणपुर-पल्ली-बारसूर मार्ग लम्बाई 43 किलोमीटर, दक्षिण बस्तर (दंतेवाड़ा) जिले के पोंडम-कटेकल्याण मार्ग लम्बाई 38 किलोमीटर, बारसूर-गीदम-दंतेवाड़ा-किरन्दुल-अरनपुर – जागरगुड़ा मार्ग लम्बाई 97.60 किलोमीटर, सुकमा जिले के राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक 221 के 34 किलोमीटर तथा बीजापुर जिले के बासागुड़ा-पामेड़ मार्ग लम्बाई 51 किलोमीटर का निर्माण कार्य शुरु है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!