पवन दीवान का निधन

रायपुर | संवाददाता: पूर्व सांसद और कवि पवन दीवान का आज निधन हो गया. वे ब्रेन हेमरेज के बाद से कोमा में थे और गुड़गांव के मेदांता अस्पताल में उनका इलाज चल रहा था.

8 अगस्त 1945 को राजिम के पास ग्राम किरवई में जन्मे पवन दीवान की पहचान एक संन्यासी के तौर पर थी, कवि के तौर पर थी, प्रवचनकर्ता के तौर पर थी, विधायक और सांसद के तौर पर रही. लेकिन इन सब जगहों पर भी पवन दीवान की उपस्थिति एक उब की तरह होती थी. उनकी तलाश आजीवन चलती रही.


शिक्षक सुखरामधर दीवान के बेटे पवन दीवान 1977 में राजिम से विधायक चुने गये थे. जनता पार्टी की सरकार में जेल मंत्री भी रहे. वे 1991 और 1996 में महासमुंद से सांसद का चुनाव कांग्रेस के टिकट पर जीते. इसके बाद 1998 में वे भाजपा के चंद्रशेखर साहू से हार गए थे. इससे पहले 1989 में कांग्रेस के टिकट पर लोकसभा चुनाव लड़े मगर विद्याचरण शुक्ल से हार गए थे.

राजनीति की शुरुआत उन्होंने जनता पार्टी से की थी, लेकिन बाद में कांग्रेस में शामिल हुए और लंबे समय तक रहे. 2013 में छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाओं के दौरान उन्होंने भाजपा की सदस्यता ले ली थी.

यह भी पढ़ें: जीवन भर क्या तलाशते रहे पवन दीवान !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!