कारतूसों का राज क्या है?

रायपुर | समाचार डेस्क: रायपुर के होम्योपैथिक डॉक्टर अनिरुद्ध चटर्जी के घर मिले 529 राउंड खाली कारतूसों का राज क्या है. खबरों के अनुसार पुलिस छापे में 148 राउंड जिंदा कारतूस तथा 529 राउंड खाली कारतूस मिले हैं. इतना ही नहीं डॉ. अनिरुद्ध चटर्जी के यहां पुलिस को छापे में 16 डिब्बा .22 के छर्रे तथा 1 डिब्बा गन पाउडर भी मिला है.

गिरफ्तार डॉक्टर ने पुलिस को कबूला है कि वह गनों को शौकिया तौर पर मॉडिफाई किया करता है. यदि केवल गनों को मॉडिफाई करना ही शौक है तो कारतूस वहां कैसे मिले. क्या कारतूसों को भी मॉडिफाई या बनाया जाता है. यदि कारतूस बनाया जाता है तो किसके लिये बनाया जाता है. इतनी बड़ी संख्या में कारतूस मिलना साधारण बात नहीं है. क्या इसे कहीं पर सप्लाई भी किया गया है या यूं ही घर में शौकिया तौर पर रखा गया है.

उल्लेखनीय है कि छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में एक होम्योपैथिक डॉक्टर के यहां छापे में हथियार बनाने की फैक्ट्री का खुलासा हुआ है. रायपुर के टैगोरनगर के रहने वाले डॉ. अनिरुद्ध चटर्जी के यहां पुलिस को हथियार की जखीरा तथा एक छोटी-मोटी फैक्ट्री मिली है.

छत्तीसगढ़ पुलिस को छापे में होम्योपैथिक डॉक्टर के यहां से एक 315 बोर की मॉडिफाई बंदूक, 32 रिवाल्वर, 10 एयरगन, 8 रिवाल्वरों के ग्रिप्स, 4 रायफल बट, 20 तीर, 7 तलवार, 1 एयर पिस्टल, 2 कटार, 1 गड़ासा, 2 चाकू, 3 बटनदार चाकू, 3 फरसा तथा 1 खुखरी मिली है.

पुलिस द्वारा प्रारंभिक पूछताछ में पता चला है कि होम्योपैथिक डॉक्टर शौकिया तौर पर ऐसा करता था. दरअसल, शनिवार को टैगोरनगर में रात को साढ़े दस बजे हवाई फायर की आवाज सुनी गई. पुलिस ने फायर करने वाले राजेश पाल को जब गिरफ्तार किया तो उसने होम्योपैथिक डॉक्टर के यहां तीसरी मंजिल पर स्थित इस फैक्ट्री की जानकारी दी.

पुलिस मामले की जांच कर रही है तथा अन्य पहलुओं की भी पड़ताल कर रही है. पुलिस ने आरोपियों को गिरफ्तार कर शनिवार को कोर्ट में पेश किया जहां से रिमांड पर भेज दिया गया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *