रमन के गोठ: सूखा प्रभावितों को रोजगार

रायपुर | संवाददाता: छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह ने राज्य के सूखा प्रभावितों को रोजगार का दिलासा दिया है. रविवार को प्रसारित कार्यक्रम रमन के गोठ में उन्होंने छत्तीसगढ़ के सूखा प्रभावित किसानों को कहा कि, “अब किसानों को 50 फीसदी फसलों की बजाय 33 फीसदी फसल खराब होने पर मुआवजा मिलेगा. उन्‍होंने कहा सरकार किसानों की चिंता कर रही है.”

कार्यक्रम में उन्‍होंने छत्‍तीसगढ़ में सूखे पर चिंता जताई और सूखे से प्रभावित लोगों को रोजगार उपलब्‍ध कराने की बात कही. इस प्राकृतिक आपदा पर वे 15 सितंबर को होने वाले कैबिनेट की बैठक में फैसला लेंगे.


रमन की गोठ कार्यक्रम को लेकर उन्‍होंने लोगों से प्रतिक्रिया और सुझाव भी मांगे. कार्यक्रम के दौरान उन्‍होंने प्रदेशवासियों को तीज-त्‍यौहार की शुभकामनाएं भी दी. सीएम ने कहा कि स्‍कूल खोलने के साथ-साथ पेयजल और शौचालय भी जरुरी है. प्रदेश में 80 लाख खाते जनधन योजना और 20 लाख सुरक्षा बीमा के खाते खोले गए हैं. उन्‍होंने कहा कि हम शिक्षा की गुणवत्‍ता पर भी अभियान शुरू कर रहे हैं.

उल्लेखनीय है कि छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह देश के पहले मुख्यमंत्री हैं जिन्होंने आकाशवाणी के माध्यम से जनता से रूबरू होना शुरु किया है. इससे पहले भी वे अपने निवास स्थान पर जन दर्शन कार्यक्रम के माध्यम से छत्तीसगढ़ की जनता से सीधे मिलते रहें हैं.

दूसरी तरफ, छत्तीसगढ़ कांग्रेस के अद्यक्ष भूपेश बघेल ने तंज कसा है कि मुख्यमंत्री को बारह साल हो गये हैं अब जाकर उन्हें जनता से बात करने की फुरसत मिली है. भूपेश बघेल ने कहा कि सीएम रमन रेडियो के जरिए लोगों से संपर्क साध कर प्रधानमंत्री मोदी की नकल कर रहे है.

ग्रामीणों ने चौपाल लगाकर सुनी रमन के गोठ:
महिलाएं, बच्चे, नौजवान हों या बुजुर्ग आज सभी को इंतजार था रमन के गोठ का. सभी घड़ी की ओर टकटकी लगाए देख रहे थे कि कब पौने ग्यारह बजे और वे सुनें कि आखिर प्रदेश का मुखिया उनसे कहना क्या चाहता है.

पूरे जिले के गांव-गांव में उत्सुकता एवं प्रतीक्षा का यही आलम देखने को मिला. सभी जगहों पर उत्साह से आकाशवाणी पर प्रसारित कार्यक्रम को सुना गया. विकासखंड धरसींवा के ग्राम निलजा में महिलाओं ने अपनी अलग चौपाल लगाकर रेडियो पर रमन के गोठ सुने.

मुख्यमंत्री ने जब प्रदेश की महिलाओं को तीजा की बधाई दी, तो सबके चेहरे पर त्योहार से पहले ही खुशियां दौड़ गईं. विकासखंड धरसींवा के ग्राम निलजा में घनश्याम वर्मा, अखिलेश वर्मा, सुरेश साहू, रूपेंद्र साहू, सुरेश वर्मा, सुरित साहू, इतवारी वर्मा, चंद्रशेखर वर्मा, शानू धीवर, नारायण निर्मलकर, मेघनाथ वर्मा, दौलतराम बघेल, नारद निर्मलकर, चोवाराम वर्मा, शत्रुहन वर्मा, सोमनाथ वर्मा, राजेश सिरमौर, राजेंद्र विश्वकर्मा, विनोद साहू सहित अनेक ग्रामीणों ने पूरे ध्यान से मुख्यमंत्री की बातें सुनीं.

पोला त्योहार और गर्मी के बावजूद धरसींवा विकासखंड के ग्राम धनेली में ग्रामीणों ने रेडियो पर मुख्यमंत्री की वार्ता बड़े उत्साह से सुनी. गांव में महिलाओं, पुरुषों, बुजुर्गो के अलावा बच्चों ने भी बूढ़ी चौक के रंगमंच में एकत्र होकर प्रदेश के मुखिया की वार्ता सुनी.

छत्तीसगढ़ में आकाशवाणी के सभी केंद्रों से रविवार सवेरे पौने 11 बजे से 11 बजे तक जनसंपर्क विभाग द्वारा तैयार किए गए मुख्यमंत्री के मासिक रेडियो कार्यक्रम ‘रमन के गोठ’ की पहली कड़ी का प्रसारण किया गया. ग्रामीणों ने यह सुनकर उत्साहजनक प्रतिक्रिया दी.

सरपंच कमलीन साहू ने कहा कि रमन सिंह पहले ऐसे मुख्यमंत्री हैं जो लोगों तक रेडियो के माध्यम से पहुंच रहे हैं. यह प्रयास सराहनीय है. इस कार्यक्रम के माध्यम से हम भी अपनी बात सीधे मुख्यमंत्री तक पहुंचा सकते हैं.

इसी गांव की प्रेमा शास्त्री मुख्यमंत्री द्वारा तीजा पोला की बधाई पाकर बहुत खुश हुईं. अपनी खुशी व्यक्त करते हुए उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री को हमारे सुख-दुख की चिंता है और वे जनता के हित को ध्यान में रखकर ही योजना बना रहे हैं.

वहीं, भुवनेश्वर साहू ने कहा कि मुख्यमंत्री और उनकी सरकार किसानों के हित के लिए हर संभव प्रयास कर रही है. आज की वार्ता में भी यह बात सामने आई है.

विपिन देव शर्मा ने कहा कि मुख्यमंत्री का प्रदेश की जनता से जुड़ने की दिशा में यह कदम प्रशंसनीय है. वहीं खेदूराम निषाद ने कहा कि जनसंचार के सबसे सशक्त माध्यम रेडियो के द्वारा लोगों तक पहुंचने की यह पहल मील का पत्थर साबित होगी. इससे हमें सरकार की प्राथमिकताओं के बारे में जानकारी मिलेगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!