छत्तीसगढ़: सिंहदेव को रमन की पाती

रायपुर | संवाददाता: छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह ने विधानसभा के नेता प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव को शुक्रवार को पत्र भेजकर ‘जनदर्शन’ के बारे में बताया. नेता प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव को लिखे पत्र में मुख्यमंत्री रमन सिंह ने कहा है, “मुझे समाचार पत्रों में आपका यह बयान पढ़ने को मिला कि पंचायत विभाग के डाटा एण्ट्री ऑपरेटरों की बहाली के संबंध में आपके द्वारा मुझे जो पत्र भेजा गया था, उसे जनदर्शन की वेबसाइट में डाल दिया गया है.”

उन्होंने आगे लिखा है कि “मैं पूरी विनम्रता के साथ यह स्पष्ट करना चाहता हूं कि आपके पत्र को अत्यंत महत्वपूर्ण मानते हुए उसकी विषयवस्तु पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग से संबंधित होने के कारण उसे विभाग के अपर मुख्य सचिव को भेजा गया है.”

रमन ने कहा “मुझे प्राप्त होने वाले समस्त प्रकार के आवेदन पत्रों को जिस वेबसाइट में दर्ज किया जाता है, उसका नाम ‘जनदर्शन’ है. यह नाम लोकतंत्र में जनता और जनप्रतिनिधियों के महत्व को सर्वोपरि मानते हुए रखा गया है. जनदर्शन वेबसाइट की ऑनलाईन व्यवस्था शासन-प्रशासन में पारदर्शिता की दृष्टि से अत्यंत महत्वपूर्ण है. चूंकि यह विषय आपके द्वारा सार्वजनिक रूप से मेरे ध्यान में लाया गया है, अतः इस संबंध में आपको वस्तु स्थिति की जानकारी देने के साथ-साथ मैं भी अपना यह पत्र सार्वजनिक कर रहा हूं.”

उल्लेखनीय है कि ग्राम पंचायतो में पदस्थ डाटा एंट्री ऑपरेटरों की बहाली के सम्बन्ध में छत्तीसगढ़ विधानसभा के नेता प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव ने पिछले दिनों मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह को भेजे पत्र भेजा था. जिसे जनदर्शन में डाल दिया गया था. इस तरह से नेता प्रतिपक्ष के पत्र को आम जनता के लिए होने वाले साप्ताहिक जनदर्शन कार्यक्रम की श्रेणी में रखा गया.

नेता प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव ने इस मसले पर अपनी नाराज़गी ज़ाहिर करते हुए एक बार मुख्यमंत्री को पत्र लिखा. उन्होंने लिखा कि आपको संबोधित मेरे पत्रों पर आपके कार्यालय से प्राप्त प्रति उत्तरों से ऐसा प्रतीत हो होता है कि मुख्यमंत्री सचिवालय द्वारा मेरे पत्रों को गंभीरता से नहीं लिया जाता. मेरे व्यक्तिगत पत्रों को भी जनदर्शन में प्राप्त पत्रों की श्रेणी में रखा जा रहा है तथा नीतिगत मामलो के अनेक पत्रों को अपर सचिव स्तर के अधिकारी को अग्रेषित किया जा रहा है.


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *