गणतंत्र याने आम जनता का तंत्र: रमन

जगदलपुर | संवाददाता: छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह ने गणतंत्र दिवसे के दिन कहा कि गणतंत्र का अर्थ आम जनता का तंत्र होता है. इस अवसर पर उन्होंने कहा कि मानवता का सबसे बड़ा दुश्मन कुपोषण है, क्योंकि यह हमारी नई पीढ़ी की सेहत को ही खोखला कर देता है और उनका शारीरिक तथा मानसिक विकास रोकता है. इसलिए राज्य में कुपोषण के खिलाफ निर्णायक जंग छेड़ी गई है. मुझे खुशी है कि विगत दस वर्षों में हमने कुपोषण की दर 52 प्रतिशत से घटाकर 32 प्रतिशत पर ला दी है और अब एक वर्ष में 25 प्रतिशत तक लाने का लक्ष्य है.

छत्तीसगढ़ में पड़े सूखें पर रमन सिंह ने कहा कि हमने सूखा राहत के लिए इतिहास में पहली बार बहुत से उपाय किए हैं, जैसे- राजस्व पुस्तक परिपत्र में प्राकृतिक आपदाओं की सूची में सूखे को भी शामिल किया गया है, जिसके तहत 33 प्रतिशत से ज्यादा हानि वाले असिंचित क्षेत्र के किसानों को 6 हजार 8 सौ रू. प्रति हेक्टेयर तथा सिंचित क्षेत्र वाले किसानों को 13 हजार रू. प्रति हेक्टेयर की राहत दी जा रही है.


छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा अनुसूचित जाति तथा जन जातियों के लिये िये जा रहे कार्यों का वर्णन करते हुये उन्होंने कहा सतनाम पंथ के प्रवर्तक गुरूबाबा घासीदास की जन्म और कर्मस्थली गिरौदपुरी धाम में गगनचुंबी जैतखाम के लोकार्पण से हमारा एक बड़ा संकल्प पूरा हुआ है. अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति वर्गों के उत्थान के लिए बहुआयामी प्रयास किए जा रहे हैं. इनके रहवासी क्षेत्रों में अधोसंरचना तथा शिक्षा के विकास को मूलमंत्र बनाया गया है. आदिवासी विकासखण्डों में 5 सौ सीटर, 15 नए छात्रावासों के निर्माण को मंजूरी दी गई है.

उन्होंने कहा कि प्रदेश में प्रारंभिक शिक्षा के लोकव्यापीकरण का लक्ष्य पूरा कर लिया गया है और अब माध्यमिक शिक्षा का लोकव्यापीकरण किया जा रहा है. उच्च शिक्षा में गुणवत्ता के साथ रोजगारपरकता पर ज्यादा जोर दिया जा रहा है. प्रदेश में युवाओं के उत्साहवर्धन के लिए राष्ट्रीय तथा अन्तरराष्ट्रीय स्तर के आयोजनों का दौर नई ऊंचाइयों पर पहुंचा है.

मुख्यमंत्री रमन सिंह ने कहा प्रदेश में स्वास्थ्य सुविधाओं में बढ़ोत्तरी का अभियान जारी है. राज्य में त्रिस्तरीय पंचायत राज व्यवस्था को सुदृढ़ करने के लिए 14वें वित्त आयोग के अंतर्गत प्राप्त 566 करोड़ रू. की राशि सीधे ग्राम पंचायतों को हस्तांतरित कर दी गई है.

रमन सिंह ने आगे कहा, मैं आज आपको यह खुशखबरी देना चाहता हूं कि खनिज प्रधान राज्य का लाभ अब सभी जिलों को मिलेगा, जिसके लिए ‘डिस्ट्रिक्ट मिनरल फाउंडेशन ट्रस्ट’ का गठन किया जाएगा. स्वीकृत खनिपट्टेधारियों द्वारा रायल्टी के अतिरिक्त 30 प्रतिशत राशि इन न्यासों में जमा कराई जाएगी, जो कि 900 करोड़ से भी अधिक होगी. जिलों को प्राप्त इस राशि से खनन संक्रियाओं से प्रभावित क्षेत्रों में भौतिक तथा सामाजिक अधोसंरचनाओं का विकास किया जाएगा.

छत्तीसगढ़ की चर्चा करते हुये मुख्यमंत्री रमन सिंह ने कहा आप सबके सहयोग से छत्तीसगढ़ में विकास का सकारात्मक वातावरण बना है. आजकल विश्व स्तर पर इस बात का सर्वेक्षण होता है कि कोई राज्य या देश ‘ईज़ ऑफ डूइंग बिजनेस’ के मापदण्डों पर कहां खड़ा है. ये कसौटियां ही राज्य में निवेश का आकर्षण होती हैं. ‘ईओडीबी’ में विश्व बैंक ने छत्तीसगढ़ को देश में चौथा स्थान दिया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!