छत्तीसगढ़: सरगुजा में हाथियों का आतंक

अंबिकापुर | समाचार डेस्क: हाथियों के एक दल ने शनिवार को सिलमा गांव में तबाही मचाई. करीब 35 हाथियों के दल में शावक भी हैं. इस दल ने गन्ने के खेतों को तबाह कर दिया. गांव वाले हाथियों को भगाने के लिये फटाके फोड़ते रहें, ढोल बजाये रहें परन्तु उत्पाती हाथियों पर इसका कोई प्रभाव नहीं पड़ा.

पिछले रात को भी इसी हाथियों के दल ने पड़ोस के गांव में 10 घरों को तोड़ डाला था.


बतौली क्षेत्र में हाथियों द्वारा फसलों को व्यापक नुकसान पहुंचाया गया है. सिलमा गांव में शनिवार को सागर, कलमसाय, विश्वनाथ, तेजराम, सावलीराम, बोधन, पावला, करमू, काबिल और जोहन के कुछ 50 एकड़ से अधिक गन्ना को फसल हाथियों ने नष्ट कर दिया.

सीतापुर के वन विभाग के रेंजर एसबी चंदेल ने कहा कि हाथियों का दल भटककर बतौली के कई गांवों में विचरण कर रहा है. गांवों के बीच सामंजस्य बनाकर ही हाथियों को जशपुर तैमोर पिंगला का रास्ता दिखाया जा सकता है. हाथियों को छेड़ने, बेवजह शोर करने से जानमाल का खतरा हो सकता है. वन विभाग पूरी मुस्तैदी से ग्रामीणों के साथ जुटा है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!