चार सालों में 55 कोल खदान शुरु

रायपुर | संवाददाता: छत्तीसगढ़ में कोल माइनिंग के लिये पिछले चार सालों में आठ खदानें शुरु की गई हैं. ये खदानें 2014 से 2018 के बीच खोली गई हैं.

देश भर के आंकड़ों की बात करें तो इस दौर में देश में कुल 55 कोयला खदानों को शुरु किया गया.


यह वह दौर था, जब देश भर में कोल माइनिंग को लेकर भारी विवाद छाया हुआ था. सरकार पर करोड़ों रुपये के कथित घाटे के आरोप लगे थे.

रेल, कोयला, वित्त एवं कारपोरेट कार्य मामलों के मंत्री पीयूष गोयल का दावा है कि नई खदानों के खोलने से विद्युत क्षेत्र के लिये कोयला आपूर्ति में वृद्धि करने में सहायता मिली है.

2014 से 2019 के बीच खोले गये कोयला खदानों, कंपनियों और राज्यों का विवरण इस प्रकार है-

11.02.2014-एकीकृत सुदामडीह पाथेरडीह, बीसीसीएल, झारखंड
03.03.2014 बिरसा परियोजना, सीसीएल, झारखंड
24.04.2014 बिचारपुर यूजी कोलियरी, एमपीएसएमसीएल, मध्यप्रदेश
17.06.2014 भूतगारिया एकीकृत कोलियरी, बीसीसीएल, झारखंड

17.03.2015 मकरधोकरा ओसीएम, डब्ल्यूसीएल, महाराष्ट्र
17.03.2015 कालीपहारी ओसी पेच, ईसीएल, पश्चिम बंगाल
20.03.2015 मगध ओसीपी, सीसीएल, झारखंड
07.04.2015 सरीसातोली कोयला खान, सीईएससी, पश्चिम बंगाल
07.04.2015 बेलगांव यूजी कोलियरी, सनफ्लैग, महाराष्ट्र
05.05.2015 मंडला नार्थ यूजी कोलियरी, जेएएल, मध्यप्रदेश
05.05.2015 पारसा ईस्ट केते बासन, पीआरवीडब्ल्यूएनएल, छत्तीसगढ़
20.05.2015 उमरसर लिग्नाइट खान, उमरसर लिग्नाइट, गुजरात
21.05.2015 उरीमरी ओसीपी ‍(अर्गदा पेच), सीसीएल, झारखंड
05.06.2015 अमेलिया नार्थ, जेपीवीएल, मध्य प्रदेश
03.07.2015 तालाबीरा-1, जीएमआर, ओडिशा
20.07.2015 भानेगांव ओसीएम, डब्ल्यूसीएल, महाराष्ट्र
12.11.2015 गारे-पेल्मा ‍IV/4, एचआईएल, छत्तीसगढ़
20.11.2015 चोटिया-I ओसीएम, बीएसीएल, छत्तीसगढ़
23.11.2015 गारे पेल्मा-‍IV/5 यूजी कोलियरी, एचआईएल, छत्तीसगढ़
24.11.2015 पेनगंगा ओसीएम, डब्ल्यूसीएल, महाराष्ट्र
10.12.2015 न्यूमाजरी यूजी से ओसी, डब्ल्यूसीएल, महाराष्ट्र

07.03.2016 सियालघोगरी कोयला‍खान, आरसीसीपीएल, मध्यप्रदेश
11.07.2016 छाल ओसीएम, एसईसीएल, छत्तीसगढ़
21.09.2016 भनोरा वेस्ट ओसी, ईसीएल, पश्चिम बंगाल
13.10.2016 न्यू केंदा ओसीपी, ईसीएल, पश्चिम बंगाल
08.12.2016 न्यू सेथिया ओसीएम, डब्ल्यूसीएल, महाराष्ट्र
13.12.2016 पौनी II ओसीएम, डब्ल्यूसीएल, महाराष्ट्र
14/16.12.16 कालीपहारी ओसी‍पेच, ईसीएल, पश्चिम बंगाल

24.02.2017 कथौतिया ओसीएम, एचआईएल, झारखंड
02.03.2017 आरकेओसीपी, एससीसीएल, तेलंगाना
03/07.03.17 एडीआईसी, बीसीसीएल, तेलंगाना
07.03.2017 दिनेश ओसी, डब्ल्यूसीएल, महाराष्ट्र
04.04.2017 मार्कीमंगली‍-1, टीयूएमएल, महाराष्ट्र
08.06.2017 के के ओसीपी, एससीसीएल, तेलंगाना
29.08.2017 बाजोरा कोयला खान, डब्ल्यूपीडीसीएल, पश्चिम बंगाल
11.09.2017 माधेपुर ओसी पेच, ईसीएल, पश्चिम बंगाल
14.11.2017 चट्टी बरियातू कोलियरी, एनटीपीसी, झारखंड
20.11.2017 तदिचेरला‍-1 ओसी, टीएसपीजीसीएल, तेलंगाना

31.01.2018 जेवी राउ ओसीपी-II, एससीसीएल, तेलंगाना
31.01.2018 तलाईप्ली कोल माइनिंग प्रोजेक्ट, एनटीपीसी, छत्तीसगढ़
16.02.2018 अशोक परियोजना ओसी, सीसीएल, झारखंड
28.02.2018 दुलंगा कोयला खान परियोजना, एनटीपीसी, ओडिशा
28.03.2018 येकोना II ओसी, डब्ल्यूसीएल, महाराष्ट्र
26.04.2018 गारे पेल्मा IV/8 कोयला‍खान, एसीएल, छत्तीसगढ़
27.04.2018 गर्जनबहल ओसीएम, एमसीएल, ओडिशा
06.06.2018 अर्धग्राम कोयला‍खान, ओआईएसएल, पश्चिम बंगाल
12.06.2018 बरजोरा नार्थ कोयला खान, डब्ल्यूपीडीसीएल, पश्चिम बंगाल
30.07.2018 एकीकृत जोयरामपुर ओसी, बीसीसीएल, झारखंड
06.08.2018 बंसरा ओसी कोयला‍खान, ईसीएल, पश्चिम बंगाल
06/07.08.2018 नार्थ सियरसोल ओसी पेच, ईसीएल, पश्चिम बंगाल
24.08.2018 चोटिया-II ओसी कोयला‍खान, बीएसीएल, छत्तीसगढ़
28.08.2018 मनोहरपुर कोयला खान परियोजना ओसी, ओसीपीएल, ओडिशा
07.12.2018 पछवारा (एन), डब्ल्यूपीडीसीएल, झारखंड
21.12.2018 निरसा ओसीपी, ईसीएल, पश्चिम बंगाल

15.01.2019 इत्तापारा ओसी पेच, ईसीएल, पश्चिम बंगाल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!