कोयला घोटाला: दो एफआईआर दर्ज

नई दिल्ली | समाचार डेस्क: सीबीआई ने बुधवार को कोयला ब्लॉक आवंटन में अनियमितता किये जाने के कारण दो कंपनियों के खिलाफ नई प्राथमिकी दर्ज की है. यह जानकारी एक अधिकारी ने यहां दी. प्राथमिकी दर्ज किए जाने के बाद अब इसकी जांच की जाएगी और इसके बाद न्यायालय में मामला चलेगा.

एक अधिकारी ने कहा, “आरोप यह लगाया गया है कि अयोग्य कंपनियों को कोयला ब्लॉक आवंटित किया गया है. बीएलए इंडस्ट्रीज को कैप्टिव माइनिंग के सिद्धांत के विरुद्ध खुले बाजार में कोयला बेचने की अनुमति दे दी गई”.


सीबीआई ने कैस्ट्रान टेक्नोलॉजी लिमिटेड, कैस्ट्रान माइनिंग, बीएलए इंडस्ट्रीज प्राइवेट लिमिटेड, बीएलए इंडस्ट्रीज के प्रबंध निदेशक और कुछ निजी तथा सरकारी कंपनियों के अधिकारियों के खिलाफ मामला दर्ज किया. यह जांच साल 1993 से 2005 के बीच कोयला ब्लॉक आवंटन मामले में हुई कथित अनियमितता के संदर्भ में की जा रही है.

अधिकारियों ने बताया कि धनबाद, कोलकाता, मुंबई और नरसिमपुर में भी तलाशी अभियान चलाया जा रहा है. सीबीआई ने पिछले वर्ष अक्टूबर में पूर्व कोयला सचिव पी.सी. पारेख और हिंडाल्को के प्रतिनिधि के रूप में उद्योगपति कुमार मंगलम बिड़ला के विरुद्ध एक मामला दर्ज किया था.

बीएलए इंडस्ट्रीज प्राइवेट लिमिटेड मुंबई की कंपनी है और इसकी स्थापना 1964 में कोयला खदान खरीदने और उनका संचालन करने के लिए की गई थी.

उधर कैस्ट्रान टेक्नोलॉजीज लिमिटेड धनबाद की कंपनी है, जिसकी स्थापना 1983 में एक लोहा और इस्पात फाउंडरी के रूप में भारतीय रेल तथा इस्पात संयंत्रों को ढलुआ लोहे की आपूर्ति करने के लिए की गई थी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!