भारतीयों का मजाक, सांसद ने मांगी माफी

वाशिंगटन | समाचार डेस्क: सभा में भारतीय मूल के अमरीकियों का मजाक उड़ाने वाली अमरीकी सांसद ने माफी मांग ली है. उल्लेखनीय है कि अमरीकी सांसद लॉरेटा सांचेज ने भारतीयों का नकल करके उनका मजाक उड़ाया था. जिसके अमरीका में बसने वाले भारतीय समुदाय ने विरोध किया था. आखिरकार अमरीकी प्रतिनिधि सभा की सदस्य लॉरेटा सांचेज ने भारतीय अमरीकी नागरिकों का मजाक उड़ाने वाली अपनी टिप्पणी के लिए माफी मांग ली है. अमरीकी सांसद द्वारा मजाक उड़ाए जाने को लेकर भारतीय अमरीकी समुदाय ने नाराजगी जताई थी.

कैलिफोर्निया की अटॉर्नी जनरल भारतवंशी कमला हैरिस को पार्टी की तरफ से 2016 के सीनेट चुनाव का उम्मीदवार बनाने जाने का विरोध कर रही डेमोक्रेटिक पार्टी सदस्य लॉरेटा सांचेज ने कहा कि जो उम्मीदवार प्रवक्ताओं के माध्यम से बात रखने की बजाय स्वयं अपनी बात रखते हैं, वे कभी-कभी गलत कह जाते हैं.

सांचेज ने शनिवार को आनाहिम में एक अमरीकी भारतीय समुदाय के समक्ष अपनी बात रखते हुए भारतीय अमरीकियों की नकल की थी और किसी ने मोबाइल फोन पर इस घटना की वीडियो बना ली थी.

एक भारतीय अमरीकी के साथ तय मुलाकात को लेकर अपनी असमंजस की स्थिति को बयां करते हुए उन्होंने कहा था, “मैं उनके कार्यालय जा रही हूं और सोच रही हूं कि ओह वह एक भारतीय अमरीकी है.”

सांचेज ने अपनी इस टिप्पणी के लिए रविवार को माफी मांगी और कहा, “कल की मुलाकात के उत्साह में मैंने कुछ आपत्तिजनक कह दिया और उसके लिए मैं तहे दिल से माफी चाहती हूं.”

उन्होंने कहा, “आप में से जो लोग ऐसी जैसी स्थिति का सामना करते हैं, जैसा कि मैंने किया, जो खुले दिल से बातें करते हैं और जो प्रवक्ताओं के माध्यम से अपनी बात नहीं कहते, उन्हें पता होगा कि यह कितना मुश्किल होता है.”

उन्होंने कहा, “जल्दी या देर से, लेकिन गलतियां हम सब करते हैं. हम सब मनुष्य हैं. लेकिन यही तरीका है लोगों से खुद को जोड़ने का, आप अपनी मेज के दूसरी तरफ से आप दुनिया नहीं बदल सकते.”

समाचार पत्र ‘सैकरामेंटो बी’ के अनुसार, हैरिस ने इस घटना को अप्रत्याशित करार दिया और कहा कि इस पर सार्वजनिक रूप से कुछ कहने का सवाल ही नहीं उठता.

उनके प्रवक्ता नाथन क्लिक ने रविवार को कहा, “अटॉर्नी जनरल को लगता है कि सांसद सांचेज ने अपनी टिप्पणी के लिए मांगी मांगकर सही किया. उन्हें आशा है कि यह प्रचार कैलिफोर्निया वासियों को एकजुट करने के लिए होगा.”

हालांकि, शनिवार के कार्यक्रम की मेजबान अरुणी ठाकुर ने कहा कि सांचेज का भाषण संपूर्ण रूप से भारतीय अमरीकी समुदाय के लिए सकारात्मक था.

उन्होंने कहा, “मुझे यह लगता है कि उनकी बात को गलत तरीके से लिया गया. हम समझते हैं, वह कि वास्तव में उनका क्या आशय था.”

यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया रिवरसाइड के प्रोफेसर एवं एशियाई अमरीकियों की राजनीति में हिस्सेदारी विषय के शोधकर्ता कार्तिक रामाकृष्णन ने कहा कि शनिवार की घटना आने वाले महीनों में सांचेज के लिए नुकसानदेह साबित हो सकती है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *