गौहत्या प्रतिबंध थोपा नहीं जायेगा

पणजी | समाचार डेस्क: अमित शाह ने कहा जिन राज्यों में भाजपा सरकार वहां पशुवध पर प्रतिबंध लगाने का प्रयास किया जायेगा. हालांकि, उन्होंने यह भी कहा कि पशुवध पर प्रतिबंध वहां की जनता की राय लेने के बाद किया जायेगा. उल्लेखनीय है कि पिछले कुछ दिनों से बीफ को लेकर मोदी सरकार के सिपाही ही आपस में विरोधी बयान दे रहे थे. भाजपा अध्यक्ष अमित शाह की बात से जाहिर है कि भाजपा गौहत्या के खिलाफ है परन्तु यह फैसला जनता पर थोपा नहीं जायेगा. भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने गुरुवार को कहा कि पशुवध प्रतिबंधित करने का फैसला संबंधित राज्य सरकारों के अधिकार क्षेत्र में आता है. साथ ही उन्होंने कहा कि भाजपा शासित राज्यों की सरकारें स्थानीय लोगों की भावनाएं जानने के बाद ही इस पर कोई फैसला लेंगी. शाह ने अल्पसंख्यक मामलों के केंद्रीय राज्यमंत्री मुख्तार अब्बास नकवी के बयान पर स्पष्टीकरण देते हुए कहा कि नकवी का बयान निजी था. हालांकि इस दौरान उन्होंने गोमांस के प्रतिबंध पर पार्टी का रुख भी साफ कर दिया.

उल्लेखनीय है कि एक निजी चैनल के कार्यक्रम में मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा था कि जो लोग गोमांस खाना चाहते हैं, वे पाकिस्तान चले जाएं.

केंद्र में नरेंद्र मोदी सरकार का एक साल पूरा होने के अवसर पर आयोजित प्रेसवार्ता में भाजपा अध्यक्ष ने कहा, “हम कहना यह है कि जहां भी भाजपा की सरकार है, हम वहां पर पशु वध को प्रतिबंधित करने का प्रयास करेंगे. हालांकि प्रतिबंध पर फैसला जनता की राय लेने के बाद ही लिया जाएगा.”

विदर्भ क्षेत्र को राज्य का दर्जा देने की बात से भाजपा के कथित यूटर्न पर शिवसेना द्वारा ताना देने की बात पर अमित शाह ने कहा, “विदर्भ को लेकर हमारा यह रुख कभी नहीं रहा. यह एक मांग थी, कुछ लोग इसका समर्थन कर रहे हैं और कुछ इसका विरोध कर रहे हैं.”

राम मंदिर के मुद्दे पर शाह ने कहा कि इसे या तो न्यायालय द्वारा हल किया जा सकता है या फिर हितधारकों के बीच आम सहमति के द्वारा हल किया जा सकता है. न्यायालय में यह मुद्दा पहले से ही लंबित है.

शाह ने कहा, “पहले जो भी हुआ हो, लेकिन अब इसे बनना चाहिए.”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *