हादसों का शनिवार, चेन्नई में इमारत धंसी

चेन्नई | समाचार डेस्क: शनिवार के दिन पहले दिल्ली फिर चेन्नई में इमारत धंसने की खबर है. चेन्नई में शनिवार को एक 12 मंजिली इमारत ढह गई, जिसमें कम से कम 18 लोग फंस गए हैं. यह दुर्घटना शहर के पोरुर इलाके में घटी है.

अग्निशमन विभाग के एक अधिकारी ने कह कि एक महिला को बचा लिया गया, लेकिन कम से कम 18 अन्य लोग मलबे के नीचे फंसे पड़े हैं. अधिकारी ने कहा कि बचाव अभियान जारी है.


वहीं, राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में शनिवार सुबह चार मंजिली एक इमारत के ढह जाने से पांच बच्चों और दो महिलाओं सहित 10 लोग मारे गए और पांच अन्य घायल हो गए. एक अधिकारी के मुताबिक, हादसा सुबह करीब नौ बजे उत्तरी दिल्ली के इंद्रलोक इलाके में हुआ.

पुलिस उपायुक्त मधुर वर्मा ने बताया, “हादसे में 10 लोग मारे गए. मलबे में दबे लोगों को बाहर निकालने के लिए बचाव अभियान चल रहा है.”

वहीं, उत्तरी दिल्ली नगरपालिका परिषद के महापौर योगेंद्र चंदौलिया ने बताया कि यह पुरानी इमारत पास में चल रहे निर्माण कार्य के चलते नींव कमजोर पड़ने के कारण गिरी.

उन्होंने बताया, “एनडीएमसी ने मलबा हटाने के लिए एक उत्खनन मशीन उपलब्ध कराई है. इसके अलावा अग्निशमन विभाग की ओर से चार दमकल गाड़ियां घटनास्थल पर भेजी गई हैं.”

हादसे में घायल हुए लोगों का बाड़ा हिंदू राव और आचार्य श्री भिक्षु अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

दो परिवारों के सात लोग भवन की तीसरी मंजिल और चौथी मंजिल पर रहते थे, जबकि तीन रिश्तेदार दूसरे माले पर थे. इस हादसे में सभी की मौत हो गई.

परिवार के सदस्यों में रुबिना30 वर्ष, उसके दो बेटे आसिफ 10 वर्ष, रेहान 7 वर्ष और एक बेटी आदिबा 14 वर्ष मारी गई जबकि पति अब्दुल राशिद 38 वर्ष घायल हुए हैं.

दूसरे परिवार में सहाना 28 वर्ष, उसके बेटे अब्दुल आदिल 7 वर्ष और बेटी सबा 5 वर्ष की मौत हो गई, जबकि पति मोहम्मद नईम 39 वर्ष घायल हैं.

बिहार के दरभंगा जिले के रहने वाले एमबीए के छात्र मोहम्मद एजाज 24 वर्ष दूसरे माले पर थे और उनके साथ कमरे में रहने वाले साझीदार इम्तियाज अली 24 वर्ष व उनके रिश्ते के भाई मोहम्मद उजाल 22 वर्ष भी मारे गए.

पहले माले पर रहने वाले दो लोग पप्पू और तनवीर दुर्घटना के समय वहां मौजूद नहीं थे.

इस बीच एनडीएमसी के आयुक्त प्रवीण गुप्ता ने इलाके के सहायक अभियंता और कनिष्ठ अभियंता को निलंबित करने का आदेश दिया है.

एनडीएमसी के एक अधिकारी ने कहा, “एक अतिरिक्त आयुक्त को जांच के लिए प्रतिनियुक्त किया गया है और सात दिनों में रिपोर्ट सौंपने के लिए कहा गया है.”

इस प्रकार से देश के दो बड़े शहरों में इमारत धंसने से इस दिन को हादसों का शनिवार कहा जा सकता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!