दिल्ली ईमानदार अफसरों की खोज में

नई दिल्ली | समाचार डेस्क: केजरीवाल ने कहा कि सीएम मैं नहीं दिल्ली की जनता है तथा दिल्ली को ईमानदार अफसरों की जरूरत है. उन्होंने ईमानदार अफसरों से आवहा्न किया है कि वे स्वयं सामने आये. केजरीवाल ने कहा कि वह समस्याओं को जल्द सुलझाएंगे. उन्होंने कहा, “मैं उन ईमानदारी अधिकारियों से भी अपील करता हूं, जिन्हें निलंबित कर दिया गया है, और उनके पेंशन, मेडिकल और अन्य बकाया नहीं दिया गया है.”

आम आदमी पार्टी नेता अरविंद केजरीवाल ने सभी ईमानदार अधिकारियों से गुरुवार को उनसे मोबाइल संदेश, ईमेल और पत्र के जरिए संपर्क करने की अपील की है. केजरीवाल 28 दिसंबर को मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे. गाजियाबाद के कौशांबी में आप के दफ्तर में जनता दरबार में केजरीवाल ने संवाददाताओं से कहा, “हम ऐसे अधिकारियों को अपनी सरकार में अच्छा पद देंगे और रणनीति बनाने में उनकी मदद लेंगे.”

समाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे को शपथ ग्रहण समारोह का निमंत्रण भेजते हुए केजरीवाल ने कहा कि वह फोन पर उन्हें निमंत्रण देंगे. उन्होंने कहा कि वह अगले दो दिनों में मंत्रिमंडल की घोषणा करेंगे. अरविंद केजरीवाल ने दिल्लीवासियों को शपथ ग्रहण समारोह में आने का खुला निमंत्रण दिया है.

गौरतलब है कि स्वयं अरविंद केजरीवाल की छवि एक ईमानदार आयकर अधिकारी की रही है. अपने आयकर अधिकारी रहते हुए अरविंद केजरीवाल ने ‘परिवर्तन’ नाम से एक संस्था का गठन किया था. उस संस्था के द्वारा अरविंद बिना घूस लिये लोगं का काम करवाते थे. उस समय उन्होंने करीब 800 लोगों के काम कराये थे.

यह अरविंद केजरीवाल की ईमानदार छवि का ही नतीजा है कि दिल्ली की जनता ने उन्हें मुख्यमंत्री बनने का मौका दिया है. इसी लिये अब ईमानदार केजरीवाल दिल्ली के ईमानदार अफसरों की खोज में हैं जिनसे काम करवाया जा सके.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *