मेसी को गोल्डन बॉल अवार्ड

रियो डी जेनेरियो | एजेंसी: दक्षिण अमरीका महाद्वीप में पहली बार किसी यूरोपीय टीम ने खिताब जीता है. जर्मनी ने रविवार को रियो के माराकाना स्टेडियम में दो बार के चैम्पियन अर्जेटीना को 1-0 से हराकर चौथी बार फीफा विश्व कप खिताब पर कब्जा किया. जर्मन टीम 24 साल बार चैम्पियन बनी है. यह संयुक्त जर्मनी की पहली खिताबी जीत है. इससे पहले पश्चिम जर्मनी ने 1990 में खिताब जीता था. इसी के साथ फीफा विश्व कप में अन्य अवार्ड भी दिये गये हैं. इनमें गोल्डन बूट को सबसे सम्मानजनक अवार्ड माना जाता है.

गोल्डन बॉल अवार्ड :
24 साल के बाद फाइनल में पहुंचने वाली अर्जेटीनी टीम के कप्तान लियोनेल मेसी को टूर्नामेंट के श्रेष्ठ खिलाड़ी को दिया जाने वाला गोल्डन बॉल अवार्ड दिया गया. मेसी ने इस टूर्नामेंट में चार गोल किए और अपनी टीम को फाइनल तक ले आए. यह अलग बात है कि मेसी फाइनल और सेमीफाइनल में एक भी गोल नहीं कर सके.


गोल्डन बूट अवार्ड :
क्वार्टर फाइनल तक का सफर तय करने वाली कोलम्बियाई टीम के स्ट्राइकर जेम्स रॉड्रिगेज को सबसे अधिक गोल करने वाले खिलाड़ी को दिया जाने वाला प्रतिष्ठित गोल्डन बूट अवार्ड से सम्मानित किया गया.

इस प्रतिभाशाली युवा खिलाड़ी ने विश्व कप में सबसे अधिक छह गोल किए. जर्मनी के थॉमस मुलर, पांच गोलों के साथ इस खिताब की दौड़ में थे लेकिन वह फाइनल में अर्जेटीना के खिलाफ कोई गोल नहीं कर सके.

रॉड्रिगेज ने अपना छठा गोल ब्राजील के खिलाफ क्वार्टर फाइनल मैच में किया था. कोलम्बियाई टीम वह मैच 1-2 से हारकर विश्व कप से बाहर हो गई थी लेकिन इस गोल के साथ रोड्रिगेज सबसे अधिक गोल करने वाले खिलाड़ी बने थे.

गोल्डन ग्ल्ब्स अवार्ड :
जर्मनी के गोलकीपर मैनुएल नुएर को श्रेष्ठ गोलकीपर का गोल्डन ग्ल्ब्स अवार्ड दिया गया. इस गोलकीपर ने जर्मनी के लिए इस विश्व कप में सभी मैच खेले. उन्होंने इस दौरान 25 गोल बचाए. वह विश्व कप के दौरान जोएकिम लोव के पसंदीदा गोलकीपर बने रहे.

यंग प्लेअर अवार्ड :
फ्रांस के पॉल पोग्बा को ह्यूंदई यंग प्लेअर अवार्ड से नवाजा गया. यह पुरस्कार टूर्नामेंट में सबसे चमकदार प्रदर्शन करने वाले युवा खिव्लाड़ी को दिया जाता है. 19 साल के पोग्बा ने विश्व कप में अपने शानदार खेल और खेल भावना से सबको प्रभावित किया और कई युवा प्रतिभाशाली खिलाड़ियों की मौजूदगी में यह प्रतिष्ठित पुरस्कार हासिल करने में सफल रहे.

फेयर प्ले अवार्ड :
कोलम्बियाई टीम को इस साल का फेयर प्ले अवार्ड दिया गया. यह पुरस्कार खेल भावना के साथ मैदान में बने रहने वाली टीम को दिया जाता है. कोलम्बियाई टीम ने इस साल बेहतरीन अनुशासन का परिचय दिया. यह पुरस्कार नॉकआउट दौर में पहुंचने वाली टीम को ही दिया जाता है. कोलम्बियाई टीम क्वार्टर फाइनल में ब्राजील से हार गई थी. 2010 में यह पुरस्कार फ्रांस को मिला था.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!