करोड़ों आज आम हड़ताल पर हैं

नई दिल्ली | संवाददाता: 2 सितंबर को 10 सेट्रल ट्रेड यूनियनों के द्वारा आम हड़ताल हो रही है. इस हड़ताल में करीब 18 करोड़ मजदूर-कर्मचारियों के भाग लेने का दावा किया जा रहा है. पिछले साल 2 सितंबर की आम हड़ताल में करीब 15 करोड़ लोगों ने भाग लिया था. देश में बढ़ती महंगाई, किये गये दावों के अनुसार रोजगार का न मिलना, निजीकरण के बाद हो रहे छंटनी, असंगठित क्षेत्र के मजदूरों के लिये 18,000 रुपये न्यूनतम वेतन की जैसे 12 सूत्रीय मांगों को लेकर इस आम हड़ताल का आव्हान् किया गया है.

इस हड़ताल में वाम समर्थित सीटू, एटक के अलावा कांग्रेस की इंटक तथा समाजवादियों की हिन्द मजदूर सभा की यूनियनें भाग ले रही है. संघ समर्थित भारतीय मजदूर संघ ने इस हड़ताल में शामिल न होने का फैसला किया है.


इस हड़ताल में बैंक, बीमा, रक्षा, उड्डयन, दवा उद्योग, परिवहन तथा बड़ी संख्या में असंगठित क्षेत्र के मजदूर-कर्मचारी भाग ले रहें हैं.

सेंटर फ़ॉर ट्रेड यूनियन के महासचिव तपस सेन ने बीबीसी के वात्सल्य राय से कहा कि हड़ताल में क़रीब 15 करोड़ मज़दूर हिस्सा लेंगे. ये हड़ताल देश की दस ट्रेड यूनियनों के ज़रिये बुलाई गई है. सेन का कहना था कि ‘कामगार विद्रोह की मुद्रा में हैं.’

उनका कहना था कि ट्रेड यूनियनें 12 सूत्री मांगो को लेकर हड़ताल कर रही हैं जो लंबे समय से पूरी नहीं हुई हैं.

इस हड़ताल में इस्पात उद्योग से करीब 5 लाख जिसमें से 1.2 लाख संगठित तथा 3.8 लाख ठेका मजदूर हैं, सड़क परिवहन में 4.5 करोड़ कर्मचारी हैं जिनमें से 90 फीसदी असंगठित क्षेत्र से हैं, जल परिवहन में सरकारी क्षेत्र से 65 हजार तथा करीब 3 लाख असंगठित क्षेत्र से हैं जो माल ढ़ोने का काम करते हैं, विद्युत क्षेत्र में 22 लाख कर्मचारी काम करते हैं जिनमें से 10 स्थाई तथा 12 लाख अस्थाई हैं, निर्माण क्षेत्र में ईंट भट्टे में काम करने वालों से लेकर बड़े-बड़े निर्माण करने वाले 5-7 करोड़ मजदूर-कर्मचारी, कोयला उद्योग में 6 लाख कर्मचारी जिनमें से 3.3 लाख स्थाई तथा 2.75 लाख ठेका मजदूर हैं, बागवानी में करीब 20 लाख मजदूर काम करते हैं जो रबर, चाय से लेकर नारियल तक का उत्पादन करते हैं, पेट्रोलियम तथा गैस में 1.65 लाख कर्मचारी काम करते हैं जिनमें से 1 लाख ही स्थाई हैं तथा एक बड़ी संख्या में विभिन्न स्थानों तथा क्षेत्रों में बिखरे असंगठित क्षेत्र के मजदूर-कर्मचारियों के भाग लेने का दावा सीटू ने किया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!