गूगल ने जाना छत्तीसगढ़िया सबले बढ़िया

रायपुर | समाचार डेस्क: छत्तीसगढ़ के गौरव अग्रवाल को गूगल ने 1.7 करोड़ रुपये का पैकेज दिया है. इस तरह से गौरव को माह में 14लाख रुपयों से ज्यादा मिलेंगे. गौरव अग्रवाल छत्तीसगढ़ के भिलाई के रहने वाले हैं. गौरव ने इंदौर-आईआईटी से साइंस की पढ़ाई की है. उल्लेखनीय है कि गूगल दुनिया का सबसे बड़ा तथा सबसे उपयोग में लाया जाने वाला सर्च इंजन है. इंटरनेट का उपयोग करने वाले तथा इसमें कुछ खोजने वालों को गूगल का ही सहारा लेना पड़ता है. आज गूगल इंटरनेट का पर्याय बन गया है. ऐसे में छत्तीसगढ़ के किसी छात्र को गूगल में इतने हाई पैकेज में नौकरी मिलना राज्य के लिये गौरव की बात है. इससे छत्तीसगढ़ के अन्य युवाओँ को भी प्रेरणा मिलेगी.

छत्तीसगढ़ के भिलाई के रहने वाले गौरव अग्रवाल ने बताया, “हमें बताया गया कि गूगल एक ऑनलाइन टेस्ट ले रहा है. मैनें भी इस टेस्ट में हिस्सा लिया. इस टेस्ट को पास करने के बाद हमें पहले इंटरव्यू के लिए गुड़गांव बुलाया गया. इसके बाद के सभी इंटरव्यू बेंगलुरु में लिए गए. इंटरव्यू में सभी सवाल प्रोग्रामिंग स्ट्रक्चर और एल्गोरिद्म के ही पूछे गए. मुझे कंपनी की तरफ से बतौर सॉफ्टवेयर इंजीनियर ज्वाइन करने के लिए लैटर मिल चुका है.”


हालांकि, गौरव किस तारीख से कंपनी ज्वाइन करेंगे, अभी गूगल की तरफ से वह तारीख निश्चित नहीं की गई है.

छत्तीसगढ़ के भिलाई के रहने वाले गौरव ने आईआईटी-इंदौर में कम्प्यूटर साइंस की ब्रान्च 2011 में ज्वाइन की थी. गौरव अग्रवाल ने हाईस्कूल और इन्टमीडिएट में 90 प्रतिशत अंक प्राप्त किए हैं. इसी साल कुछ समय पहले गौरव ने रूस में हुए इंटरनेशनल कोलेजिएट प्रोग्रामिंग कॉन्टैस्ट में भी हिस्सा लिया था, जहां पर आईआईटी-इंदौर की टीम पैराडिग्म शिफ्ट ने 15 टॉप आईआईटी को पछाड़ दिया.

इस कॉन्टैस्ट में आईआईटी-इंदौर की टीम को सभी भारतीय यूनिवर्सिटी में टॉप रैंकिंग मिली थी. पूरी दुनिया में इस टीम ने 42वां स्थान प्राप्त किया था. गौरव अग्रवाल को आईआईटी-इंदौर ज्वाइन करने से पहले अन्य आईआईटी से भी ऑफर मिले थे, लेकिन वे कम्प्यूटर साइंस नहीं दे रहे थे. गौरव अग्रवाल ने कहा कि आईआईटी-इंदौर उस समय नया था, लेकिन कम्प्यूटर में रुचि होने की वजह से उन्होंने यहीं पर दाखिला लिया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!