न अवसरवादी था, न दगाबाज-उसेंडी

हैदराबाद | छत्तीसगढ़: आत्मसमर्पण करने वाले नक्सली प्रवक्ता गुड्सा उसेंडी ने नक्सलियों पर कई आरोप लगाये हैं. हाल ही में आत्मसमर्पण करने वाले माओवादी भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के नेता और दंडकारण्य विशेष क्षेत्र समिति के पूर्व प्रवक्ता गुडसा उसेंडी ने पैसे या बेहतर जिंदगी के लिए आत्मसमर्पण करने संबंधी माओवादियों के आरोप से साफ तौर पर इंकार किया है. उसने कहा है कि उसने कई कारणों से आत्मसमर्पण किया- सेहत और वैचारिक मतभेद उनमें प्रमुख थे ,जिनके कारण वह आंदोलन और पार्टी छोडऩे पर मजबूर हुआ.

उसने कहा- मैंने अपने आत्मसमर्पण से पहले सेहत और वैचारिक मतभेदों के कारण आत्मसमर्पण करने के फैसले की जानकारी देने के लिए केंद्रीय समिति को 9 पृष्ठों का पत्र लिखा. उसेंडी ने कहा कि मैं न कभी अवसरवादी था, ना दगाबाज़.

अपनी पत्नी संतोषी मरकाम समेत गुडसा उसेंडी द्वारा पुलिस के समक्ष समर्पण के बाद दंडकारण्य विशेष क्षेत्र समिति के सचिव रामन्ना ने उसेंडी पर बहुत से आरोप लगाए थे.

हैदराबाद में एक पत्रवार्ता में उसेंडी ने अपने पूर्व सहयोगी पर तथ्यों को झूठे रूप में पेश करने, और उसके और उसकी साथी पर निजी हमले करने के आरोप लगाए. उसने कहा कि वह और उसकी पत्नी 12 साल के वैवाहिक जीवन के बाद आपसी सहमति से अलग हुए, और उसने संतोषी मरकाम के साथ रहना शुरू किया जिसके बारे में पार्टी जानती है.

रमन्ना के आरोपों का सिलसिलेवार खंडन करते हुए उसेंडी ने कहा- मैं 2008 से ही स्कूलों की इमारतें नष्ट करने के खिलाफ था. केन्द्रीय समिति के नेता यह बात जानते थे. मैंने मुखबिरों का नेट्वर्क तोडऩे के नाम पर आदिवासियों की मनमानी हत्या का भी विरोध किया था. मैंने केन्द्रीय नेतृत्व को कई पत्र लिखे और अपने साथियों से पार्टी में हर स्तर पर लगातार इस पर बात करते रहा.

उसने कहा कि बस्तर में हाईटेंशन वायर पर हमले का भी मैंने विरोध किया, लेकिन केन्द्रीय नेतृत्व ने मेरी बात नहीं मानी.

यहां तक कि छत्तीसगढ़ में महेन्द्र कर्मा, वी सी शुक्ला, नंदकुमार पटेल और उनके बेटे जैसे नेताओं की हत्या के बाद भी पार्टी के भीतर यह बातें होती थीं कि इसे टाला जा सकता था. उसने कहा कि प्रवक्ता होने के नाते मैंने समय-समय पर मीडिया में इसका बचाव किया लेकिन वह मेरी निजी राय नहीं थी.

उसने कहा कि आत्मसमर्पण के बाद वह और उसकी पत्नी आदिवासियों के लिए अपने तरीके से काम करेंगे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *