आंध्र के करीब हेलेन से भारी बारिश

हैदराबाद | एजेंसी: हेलेन के चलते कृष्णा, विशाखापत्तनम, पश्चिम गोदावरी और तटीय प्रदेशों के कुछ अन्य हिस्सों में शुक्रवार तड़के से ही भारी वर्षा हो रही है. इसे देखते हुए शैक्षणिक संस्थानों में अवकाश घोषित कर दिया गया है. भारतीय मौसम विज्ञान विभाग के अनुसार, यह भयंकर तूफान शुक्रवार दोपहर के आसपास मछलीपत्तनम के करीबी तट से गुजरेगा.

बंगाल की खाड़ी में बना हुआ चक्रवाती तूफान हेलेन शुक्रवार को दिन में आंध्र प्रदेश तट पर दस्तक देने जा रहा है. इसके प्रभाव के चलते क्षेत्र के कुछ हिस्सों में अभी से मूसलाधार बारिश शुरू हो गई है. चक्रवाती तूफान के मद्देनजर तटीय जिलों में चेतावनी जारी कर दी गई है. नुकसान को कम करने के लिए एहतियाती कदम उठाए जा रहे हैं, वहीं निचले इलाके खाली करा लिए गए हैं.


आईएमडी ने आंध्र प्रदेश तट पर तूफान की चेतावनी जारी कर दी है.

आईएमडी की एक विज्ञप्ति में शुक्रवार तड़के कहा गया कि बंगाल की खाड़ी में बना हुआ हेलेन अब थोड़ा पश्चिम-उत्तरपश्चिम की ओर बढ़ा है. फिलहाल इसका केंद्र मछलीपत्तनम के पूर्व में करीब 120 किलो मीटर, ओंगोल पूर्व-पूर्वोत्तर में 250 किलो मीटर और दक्षिण-दक्षिणपश्चिम विशाखापत्तनम में 200 किलोमीटर आगे बना हुआ है.

कुछ ही समय में यह पश्चिम-उत्तरपश्चिम की ओर बढ़ेगा. उसके बाद पश्चिम की ओर और मछलीपत्तनम के करीब आंध्र प्रदेश तट पार करेगा.

दक्षिण आंध्र तट और इसके निकटवर्ती हिस्सों में तूफानी हवाओं की गति 55-65 किलो मीटर प्रतिघंटा से बढ़कर 75 किलो मीटर प्रति घंटा बनी रहेगी.

आईएमडी ने चेतावनी दी है कि तूफान की वजह से पश्चिमी और पूर्वी गोदावरी कृष्णा, गुंटूर और प्रकाशम जिले के निकटवर्ती इलाकों के निचले हिस्से 1 से 1.5 मीटर तक डूब सकते हैं.

वहीं, गुरुवार को मुख्यमंत्री एन. किरण कुमार रेड्डी ने हैदराबाद में शीर्ष अधिकारियों की बैठक में तटीय जिलों की स्थिति की समीक्षा की. उन्होंने मुख्य सचिव से सभी तटीय जिला अधिकारियों के साथ मिलकर स्थिति पर नजर बनाए रखने के निर्देश दिए हैं.

स्थिति पर नजर बनाए रखने के लिए हैदराबाद में राज्य सचिवालय में एक नियंत्रण कक्ष खोला गया है. नियंत्रण कक्ष के नंबर-040-23456005, 23451043 हैं.

कृष्णा जिले के जिलाधीश कार्यालय के टेलीफोन नंबर-08672-252572, 08672-251077 हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!