भारत-भूटान आर्थिक सहयोग बढ़ाएंगे

थिंपू | समाचार डेस्क: मोदी ने संबंधों को बी टू बी या ‘भारत टू भूटान’ संबंध करार दिया. भारत और भूटान ने रविवार को दोनों पड़ोसी मुल्कों के बीच व्यापक सहयोग विकसित करने और आर्थिक सहयोग बढ़ाने के उपायों पर चर्चा की. भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रविवार को भूटान की यात्रा पर पहुंचे हैं.

मोदी ने भूटान नरेश जिग्मे खेसर नामग्याल वांगचुक और उसके बाद प्रधानमंत्री त्शेरिंग तोब्गे के साथ मुलाकात की. अधिकृत सूत्रों के मुताबिक मोदी ने भारत को भूटान का विशेष साझीदार माने जाने पर संतोष जाहिर किया.

सूत्रों ने कहा, “प्रधानमंत्री ने इस बात पर संतोष जाहिर किया कि भारत को भूटान का विशेष साझीदार माना जाता हे और जोर दिया कि उनकी सरकार न केवल इस मजबूत बंधन की देखभाल करेगी, बल्कि उसे मजबूती भी प्रदान करेगी.”

सूत्रों ने कहा, “दोनों पक्षों की बैठक का प्रारंभिक जोर दोनों देशों के बीच विस्तृत साझीदार के विकास और आर्थिक संबंधों को बढ़ाने के उपायों पर रहा.”

द्विपक्षीय संबंधों को बी टू बी संबंध करार देते हुए मोदी ने व्यापक शैक्षणिक संपर्क की संभावना पर जोर दिया और भारत में पढ़ने वाले भूटानी छात्रों की छात्रवृत्ति दोगुनी करने का सुझाव दिया.

मोदी ने यह भी कहा कि भारत डिजीटल लाइब्रेरी स्थापित करने में मदद करेगा. इस पुस्तकालय से भूटानी छात्रों को 20 लाख पुस्तकें और पत्र पत्रिकाएं मुहैया हो सकेंगी.

गर्मजोशी से स्वागत के लिए भूटानी नेतृत्व का आभार जताते हुए मोदी ने कहा, “इससे हमारे द्विपक्षीय रिश्ते की गर्मजोशी झलकती है.”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *