भारत-नेपाल के हित साथ-साथ: मोदी

नई दिल्ली | समाचार डेस्क: प्रधानमंत्री मोदी ने कहा भारत और नेपाल के हित साथ-साथ हैं. भारत-नेपाल संबंधों में पिछले कुछ माह की कड़वाहट के बाद जब मोदी तथा ओली मिले तो दोनों ने माना कि भारत की सुरक्षा नेपाल की स्थिरता के साथ जुड़ी हुई है. इस अवसर पर भारत के प्रधानमंत्रई मोदी ने कहा, “भारत और नेपाल दो संप्रभुत्व देश है. इनकी मित्रता घनिष्ट एवं अद्वितीय है. हिमालय कि अखंडता तथा गंगा की पवित्रता हमारे सशक्त संबंधों के साक्षी हैं. सीमाओं के खुले द्वार हमारी जनता के आपसी सम्बन्धों को परिभाषित करते हैं. एक धनी संस्कृति और परंपरा के हम सांझे उत्तराधिकारी हैं. नेपाल में शांति, स्थिरता और उसका आर्थिक विकास हमारा सांझा उद्धेश्य है. भारत-नेपाल संबंधों के इन सभी पहलुओं पर मैंने और प्रधान मंत्री ओली ने आज विस्तार से बात की है.”

भारत के छह दिवसीय दौरे पर शुक्रवार को यहां पहुंचे नेपाल के प्रधानमंत्री के.पी. शर्मा ओली के साथ एक संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में प्रधानमंत्री मोदी ने शनिवार को कहा कि नेपाल की स्थिरता भारत की सुरक्षा से जुड़ी हुई है. मोदी ने कहा, “यह स्पष्ट है कि नेपाल की स्थिरता भारत की सुरक्षा से जुड़ी हुई है. प्रधानमंत्री ओली और मैं इस बात से सहमत हैं कि दोनों देशों में बढ़ते अतिवाद से हम दोनों को मिलकर निपटने की जरूरत है.”


प्रधानमंत्री मोदी ने बयान में कहा, “हम दोनों देशों के बीच खुली सीमाओं का इस्तेमाल आतंकवादियों व अपराधियों को करने की अनुमति नहीं देंगे. इस संदर्भ में दोनों देशों की सुरक्षा एजेंसियां आपस में सहयोग करेंगी.”

उन्होंने यह भी कहा कि नेपाल में शांति व स्थिरता दोनों देशों के लिए परस्पर फायदेमंद है.

मोदी ने ओली से कहा, “मैं और पूरा भारत नेपाल के आर्थिक विकास के पक्ष में है. मैं इस बात को लेकर आश्वस्त हूं कि आपके सक्षम नेतृत्व में भारत-नेपाल के संबंध और मजबूत होंगे तथा नई ऊंचाइयां छुएंगे.”

बिहार के मुजफ्फरपुर तथा नेपाल के धाकेबार के बीच बिजली पारेषण लाइन का यहां वीडियो-कांफ्रेंसिंग के जरिए मोदी और ओली ने संयुक्त रूप से उद्घाटन किया.

मोदी ने कहा, “हम संयुक्त तौर पर 7,000 मेगावाट क्षमता की पनबिजली परियोजना पर काम कर रहे हैं और इस परियोजना के जल्द पूरा होने से नेपाल की समृद्धि का मार्ग प्रशस्त होगा.”

प्रधानमंत्री ने कहा, “भारत व नेपाल के संबंधों के लिए व्यापार व निवेश मजबूत स्तंभ हैं. उन्हें और मजबूत किया जाना चाहिए.”

संयुक्त संवाददाता सम्मेलन के अंत में प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, “नेपाल में शांति, स्थिरता और सपंन्नता हमारा सांझा हित है. मैं और संपूर्ण भारत नेपाल के आर्थिक विकास के समर्थक हैं. भारत का सहयोग सदैव सकारात्मक रहा है. इसके अर्तगत लिये गये फैसले नेपाल की सरकार तथा जनता की प्राथमिकताओं के अनुरुप रहें हैं. मुझे पूर्ण विश्वास है कि आपके कुशल नेतृत्व में भारत-नेपाल संबंध और सशक्त होंगे और नई ऊंचाइयों को छुएंगे. इन शब्दों के साथ मैं एक बार पुनः आपका और आपके शिष्टमंडल का भारत में स्वागत करता हूं.”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!