मुख्यमंत्री रमन सिंह ने लगाया आईपीएल में सट्टा

बिलासपुर | संवाददाता: छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह और पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी को रायपुर में खेले गये आईपीएल मैच के दौरान सट्टा लगाने के आरोप में हाईकोर्ट बार एसोसियेशन के अध्यक्ष सीके केशरवानी ने थाने में शिकायत दर्ज कराई है. सिविल लाइन थाना प्रभारी को की गई लिखित शिकायत में अधिवक्ता केशरवानी ने कहा कि 101 रूपए की शर्त लगाना आपराधिक कृत्य है. इस मामले में केशरवानी व अन्य वकील पूर्व मुख्यमंत्री जोगी व छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री के खिलाफ शिकायत लेकर शुक्रवार की शाम को सिविल लाइन थाना गए थे. तब थाने ने ऐसा करने से इंकार कर दिया था. इसके बाद शनिवार को यह शिकायत की गई.

गौरतलब है कि 28 अप्रैल को रायपुर के परसदा स्टेडियम में दिल्ली डेयरडेविल्स व पुणे वारियर्स के बीच आईपीएल क्रिकेट मैच हुआ था. मुख्यमंत्री रमन सिंह ने ही यह राज खोला था कि इस मैच में मुख्यमंत्री रमन सिंह व पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी के बीच 101 रूपए की शर्त लगी थी. इसमें रमन सिंह शर्त जीत गये थे क्योंकि मुख्यमंत्री रमन सिंह ने दिल्ली डेयरडेविल्स की तरफ से शर्त लगाई थी और दिल्ली डेयरडेविल्स मैच डीत गई थी.

इससे पहले इसी सप्ताह मुख्यमंत्री रमन सिंह व पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी के खिलाफ दुर्ग के न्यायालय में जुआ एक्ट की धारा तीन व सात के तहत अपराध दर्ज करने की मांग की गई थी, जिसे अदालत ने खारिज कर दिया था. इसके बाद इस मामले में उपरी अदालत में अपील करने की बात कही गई थी.

इसके अलावा छत्तीसगढ़ स्वाभिमान मंच के केंद्रीय सलाहकार व प्रवक्ता राजकुमार गुप्ता ने भी रायपुर के थाने में आईपीएल में राजनेताओं की सट्टेबाजी को लेकर शिकायत दर्ज करवाई थी. राजकुमार ने अपनी शिकायती पत्र में कहा कि आईपीएल क्रिकेट मैच में हार-जीत के लिए निर्धारित राशि का लेन-देन रायपुर के सागौन बंगला में 29 अप्रैल के सार्वजनिक कार्यक्रम में किया गया. जिसमें हारने वाले अजीत जोगी ने 101 रुपये की राशि मुख्यमंत्री रमनसिंह को दी,जिसे उन्होंने स्वीकार भी किया है. इस दौरान राज्य के मुख्य सचिव सुनील कुमार और अमित जोगी सहित कई लोग मौजूद थे.

इन लोगों ने सार्वजनिक रूप से इलेक्ट्रानिक और प्रिंट मीडिया के समक्ष स्वीकार किया है कि दिल्ली डेयरडेविल्स एवं पुणे वारियर्स के टीमों के बीच रायपुर में हुए मैच के लिए उन्होंने आपस में 101 रुपये का दांव लगाया था. इसी प्रकार डॉ.रेणु जोगी एवं धर्मजीतसिंह ने भी इसी कार्यक्रम में स्वीकार किया कि उन्होंने जीत-हार के लिए एक हजार रुपये का दांव आपस में लगाया था और दांव की राशि का आपस में लेन-देन किया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *