हिटलर से भी ज्यादा बर्बर है इजरायल: तुर्की

जेरूसलम | समाचार डेस्क: तुर्की के प्रधानमंत्री रीसेप तैय्यप एडरेगन ने कहा है कि इजरायली सरकार ‘बर्बरता में हिटलर को भी मात दे गई है.’ अखबार ‘द इंडिपेंडेंट’ के मुताबिक, एडरेगन ने काला सागर के तटवर्ती शहर ओर्डू में आयोजित एक राजनीतिक रैली में कहा, “इजरायलियों के पास न तो विचार है, सम्मान है और न ही आत्मसम्मान है. जो लोग हिटलर की रात दिन निंदा करते नहीं थकते उन्होंने हिटलर की बर्बरता को भी मात दे दी है.”

एडरेगन गाजा पट्टी पर इजरायल के अभियान के धुर विरोधी हैं. उन्होंने कहा कि इजरायली रक्षा बलों की कार्रवाई ‘असंतुलित’ है और इससे तुर्की-इजरायल संबंध पटरी से उतर जाएगा.

गौरतलब है कि इजरायल की ओर से रविवार तड़के की गई गोलाबारी में कम से कम 40 फिलिस्तीनी मारे गए और 400 से अधिक घायल हो गए. गुरुवार रात से शुरू हुई जमीनी कार्रवाई में मृतकों की यह अब तक की सर्वाधिक संख्या है.

इजरायली सेना के प्रवक्ता लेफ्टिनेंट कर्नल पीटर लर्नर ने एक बयान में कहा, “हमास ने एक बार फिर संघर्ष-विराम का उल्लंघन किया, इजरायली सेना उसका जवाब दे रही है.”

दूसरी ओर, हमास ने इजरायल पर आरोप लगाया है कि उसने चिकित्सा दलों पर बमबारी की. हमास का यह बयान उसके ट्विटर अकाउंट पर दर्ज है.

इसके पहले अंतर्राष्ट्रीय रेडक्रॉस कमेटी के अनुरोध पर इजरायल दो घंटे के मानवीय संघर्ष-विराम के लिए राजी हो गया था. अंतर्राष्ट्रीय रेडक्रॉस कमेटी ने संघर्ष-विराम का यह अनुरोध मृतकों और घायलों को अस्पताल पहुंचाने के लिए किया था. संघर्ष-विराम की अवधि रविवार अपराह्न् 1.30 बजे शुरू होकर 3.30 बजे तक चलनी थी.

अंतर्राष्ट्रीय रेडक्रॉस कमेटी ने पूर्वी गाजा शहर में पड़ोस के शेजाया में मारे गए लोगों और घायलों को निकालने के लिए रविवार को हमास और इजरायल के समक्ष संघर्ष-विराम का प्रस्ताव रखा था. हमास ने भी इस प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया था.

गाजा के शिफा अस्पताल के अधिकारियों ने कहा कि उनके पास इजरायली बमबारी में मारे गए लोगों के 40 शव आए हैं. इजरायली बमबारी गाजा के पूर्व में पड़ोसी शुजैया में की गई.

हमास आंदोलन ने कहा है कि शुजैया में जो कुछ हुआ, वह एक युद्ध अपराध है. गाजा में गुरुवार से इजरायल ने जमीनी हमला शुरू किया है.

इजरायल के अभियान में अभी तक कम से कम 390 फिलिस्तीनी मारे गए हैं और 3000 से ज्यादा घायल हुए हैं.

फ्रांस ने शनिवार को गाजा में इजरायल और इस्लामवादी हमास आंदोलन के बीच संघर्ष विराम का आह्वान किया है. गाजा पट्टी में जारी हिंसा में निर्दोष लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ रही है.

फ्रांसीसी विदेश मंत्री लॉरेंट फैबियस ने जार्डन के विदेश मंत्री नासर जुदेह के साथ एक संवाददाता सम्मेलन में दोनों पक्षों के बीच तत्काल संघर्ष-विराम का आह्वान किया. उन्होंने कहा कि उनका देश और यूरोपीय संघ स्थायी संघर्ष विराम तक पहुंचने में मदद कर सकता है.

उन्होंने कहा कि क्षेत्र में उनकी यात्रा का मकसद जारी हिंसा की समाप्ति है ताकि नागरिकों की रक्षा की जा सके. उन्होंने कहा कि इस समय प्राथमिकता संघर्ष-विराम पह पहुंचना है.

इस बीच जार्डन के विदेश मंत्री ने इजरायल के हवाई हमले की निंदा करते हुए कहा कि गाजा पट्टी पर बढ़ती आक्रामकता मध्यपूर्व में हिंसा को बढ़ाएगी.


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *