जाट आंदोलन हिंसक, सेना बुलाई गई

चंडीगढ़ | समाचार डेस्क: हरियाणा में आरक्षण की मांग कर रहा जाट आंदोलन हिंसक हो गया है. जिसके मद्देनजर शुक्रवार को सेना को बुला लिया गया है. हिंसक आंदोलनकारियों ने पुलिस तथा कई वाहनों में आग लगा दी. निजी संपत्ति को नुकसान पहुंचाये जाने की भी खबर है. पुलिस की गोली से एक आंदोलनकारी के मरने की खबर है. मख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने चेतावनी दी है कि कानून को अपने हाथ में न ले. हरियाणा में जाट आंदोलन के शुक्रवार शाम हिंसक होने के मद्देनजर प्रदेश के रोहतक सहित कुछ जिलों में सेना बुलाई गई है. हरियाणा के पुलिस महानिदेशक वाई.पी.सिंघल ने मीडिया से यहां कहा कि रोहतक, झज्जर, सोनीपत, भिवानी व हिसार जिलों में सेना बुलाई गई है.

उन्होंने कहा कि जाट समुदाय की एक नेतृत्व विहीन भीड़ रोहतक की तरफ बढ़ रही है और हिंसा का सहारा ले रही है.


उन्होंने कहा कि रोहतक में प्रदर्शनकारियों में से किसी ने सीमा सुरक्षा बल के कर्मियों पर गोलीबारी की.

उल्लेखनीय है कि हरियाणा के रोहतक जिले में जाट आरक्षण की मांग को लेकर चल रहा आंदोलन छठे दिन शुक्रवार को हिंसक हो उठा. पुलिस ने जाट प्रदर्शनकारियों पर गोलियां चलाईं, जिसमें एक व्यक्ति की मौत हो गई और अन्य 10 लोग घायल हो गए. अधिकारियों ने यह जानकारी दी.

पुलिस अधिकारियों ने कहा कि प्रदर्शनकारियों ने पुलिस महानिरीक्षक तथा हरियाणा के वित्त मंत्री अभिमन्यु के अवास पर हमला किया. पुलिस ने उन्हें रोकने के लिए गोलियां चलाईं.

जाटों के आंदोलन के छठे दिन शुक्रवार को रोहतक, झज्जर व राज्य के कुछ जिलों में जन-जीवन प्रभावित रहा.

नौकरियों व शिक्षण संस्थानों में आरक्षण की मांग कर रहे जाट प्रदर्शनकारियों ने रोहतक में पुलिस और निजी वाहनों को आग के हवाले कर दिया. साथ ही निजी संपत्तियों को भी नुकसान पहुंचाने के साथ उन्होंने मीडियाकर्मियों से भी दुर्व्यवहार किया.

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के ऑफिसर ऑन स्पेशल ड्यूटी जवाहर यादव ने गोलीबारी की घटना को दुर्भाग्यपूर्ण करार दिया.

भारतीय जनता पार्टी नेता अनिल जैन ने पुलिस की गोलीबारी में एक व्यक्ति के मौत की पुष्टि की.

पुलिस ने बताया कि घायलों को रोहतक के पोस्ट ग्रेजुएट इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज में भर्ती कराया गया है.

प्रदर्शनकारी बीते छह दिनों से रोहतक, झज्जर, सोनीपत, भिवानी, जिंद, हिसार व कुछ अन्य जिलों में सड़कों, राजमार्गो व रेलमार्गो को अवरुद्ध कर रखा है, जिससे आमजनों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है.

जाटों के बढ़ते आंदोलन के मद्देनजर, हरियाणा सरकार ने आरक्षण मुद्दा और जाटों के प्रदर्शन पर चर्चा करने के लिए चंडीगढ़ में सर्वदलीय बैठक बुलाई. बैठक में प्रदर्शनकारियों से आंदोलन खत्म करने व मार्गो से अवरोध हटाने का आग्रह किया गया.

वहीं, जाट नेताओं ने आंदोलन खत्म करने की अपील को खारिज कर दिया.

चंडीगढ़ में सर्वदलीय बैठक के बाद खट्टर ने कहा, “सरकार राज्य में जाटों के आरक्षण के पक्ष में है और इसके लिए तरीका तलाश रही है.”

खट्टर ने कहा कि सरकार आरक्षण पर एक मसौदा विधेयक तैयार करेगी और इस संबंध में सुझाव मांगा. खट्टर ने कहा, “इस मांग पर सरकार का रुख सकारात्मक है.”

कुरूक्षेत्र से भाजपा सांसद राज कुमार सैनी के बयान की ओर इशारा करते हुए खट्टर ने कहा कि सैनी से प्रदर्शनकारियों के बारे में दिए गए बयान को वापस लेने के लिए कहा गया है. सैनी ने जाटों को आरक्षण देने का विरोध किया था.

खट्टर ने कहा, “यदि सैनी के बयान से जाटों का दिल दुखा है, तो उनके सारे बयानों को वापस समझा जा सकता है. सैनी अभी कहीं बाहर गए हुए हैं और जैसे ही वे वापस आएंगे, अपना बयान वापस ले लेंगे.”

मुख्यमंत्री ने चेतावनी देते हुए कहा कि किसी को भी कानून को अपने हाथ में लेने की मंजूरी नहीं दी जाएगी.

हरियाणा के कृषि मंत्री ओ.पी.धनखड़ ने गुड़गांव में कहा कि राज्य सरकार हरियाणा में जाटों को विशेष पिछड़ा वर्ग का दर्जा देने को तैयार है.

हरियाणा में जाटों के बढ़ते आंदोलन के मद्देनजर, अधिकारियों ने प्रभावित जिलों में इंटरनेट सेवा बंद कर दी है.

अधिकारियों ने शुक्रवार को कहा कि रोहतक, सोनीपत व झज्जर जिले में इंटरनेट सेवा को बीती आधी रात से ही बंद कर दी गई है.

हरियाणा के एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा, “ऐसा अफवाहों के फैलने से रोकने के लिए किया गया है, क्योंकि इससे हालात अनियंत्रित हो सकते हैं.”

रोहतक में गुरुवार शाम जाट प्रदर्शनकारियों की पुलिस से उस वक्त झड़प हो गई, जब पुलिस ने सड़क मार्ग पर लगे अवरोध को हटाने का प्रयास किया. प्रदर्शनकारियों ने पुलिस पर पत्थरों व ईंटों से हमला किया. इस घटना में एक पुलिस वाहन क्षतिग्रस्त हो गया.

रोहतक पुलिस प्रमुख सौरभ सिंह ने मीडिया से कहा, “प्रदर्शनकारियों ने कुछ सड़कों को अवरुद्ध कर रखा है. हम उन्हें अवरोध हटाने के लिए कह रहे हैं. हमने अर्धसैनिक बलों की मांग की है. हम हालात से निपटने के लिए तैयार हैं.”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!