सूरज ने करवाया था जिया का गर्भपात

मुंबई | संवाददाता: फिल्म अभिनेत्री जिया खान की खुदकुशी मामले में गिरफ्तारी के बाद सूरज पंचोली की मां जरीना वहाब ने कहा है कि सूरज को फंसाया जा रहा है. सूरज के पिता आदित्य पंचोली ने भी कहा है कि जिया की चिट्ठी पुरानी है और उसे आधार बना कर सूरज की गिरफ्तारी सही नहीं है.

गौरतलब है कि जिया खान की आत्महत्या के बाद जिया की मां राबिया खान ने फिल्में न मिलने की हताशा में खुदकुशी की बात को नकारते हुए एक चिट्ठी जारी की थी, जिसमें उन्होंने उन्होंने बॉलिवुड अभिनेता आदित्य पंचोली और जरीना बहाव के बेटे सूरज को जिया की मौत के लिए जिम्मेदार ठहराया था. इसी पत्र के आधार पर पुलिस ने सूरज को हिरासत में लिया, फिर पूछताछ के बाद उसे जिया को खुदकुशी के लिए उकसाने के आरोप में गिरफ्तार कर लिया.

जिया खान ने अपने पत्र में सूरज पंचोली के नाम का उल्लेख नहीं किया था लेकिन राबिया खान ने कहा कि सूरज ही वह शख्स था, जिसे जिया ने संबोधित किया है. जिया खान ने अपने पत्र में लिखा था- मैं नहीं जानती कि भाग्य ने क्यों हमें मिलाया. सभी दर्द, दुष्कर्म, उत्पीड़न के बाद मैंने पाया कि मैं इसकी हकदार नहीं थी. मैं गर्भवती होने से डरती थी लेकिन मैंने खुद को पूरी तरह तुम्हारे हवाले कर दिया. तुम्हारी वजह से मुझे हर दिन जो दर्द मिला उसने मेरा सबकुछ बर्बाद कर दिया, मेरी आत्मा को भी बर्बाद कर दिया. यदि मैं यहां रही तो मैं तुम्हारे लिए तरसती रहूंगी. इसलिए मैं अपने दस साल के करियर और सपनों को अलविदा कहती हूं. अब मैं पूरी तरह से टूट चुकी हूं और सोने जा रही हूं और चाहती हूं कि कभी न उठूं.

जिया खान ने पत्र में अपने दुखों के लिये सूरज को जिम्मेवार ठहराते हुये लिखा था- ‘तुमने मुझे दर्द के सिवा कुछ नहीं दिया. मैंने तो सिर्फ और सिर्फ तुमसे ही प्यार किया था, लेकिन बदले में तुमने मुझे क्या दी बस तन्हाई. तुम्हारे साथ रहकर भी मैं हमेशा अकेली महसूस करती रही. और आज भी मैं जिंदगी से अकेले ही लड़ रही हूं, मुझे सबसे ज्यादा दर्द तब हुआ जब मैंने हमारा बच्चा गिराया. तुमने हमेशा ही अपने सपनों के बारे में सोचा और मैंने हम दोनों के सुनहरे भविष्य के बारे में सोचा. एक औरत की महत्वाकांक्षाओं को तुमने कभी समझने की कोशिश नहीं की. मैं तब सबसे ज्यादा टूट गई थी जब मेरी सबसे बड़ी खुशी को तुमने अपने पैरों तले रौंद दिया था. मुझे बर्बाद कर दिया तुमने. मेरे पास जीने के लिए कुछ नहीं बचा है.

अपने पत्र में जिया ने लिखा- मैंने तुमसे जितना प्यार किया शायद ही कोई और लड़की तुमसे उतना प्यार कर पाए. तुमने तो मुझे प्यार में सिर्फ रुसवाई दी है. मैं तुमसे कितना प्यार करती थी इस बात का एहसास तुम्हें अभी नहीं बल्कि मेरे जाने के बाद होगा. बहुत तकलीफ होती है जब आप किसी को खुद से ज्यादा चाहते हो और वो आपको तवज्जो नहीं देता. बस अब और तकलीफ नहीं सह सकती. मैं जा रही हूं, पहले भी मेरे पास कुछ नहीं था और अब भी नहीं है. मैंने सब खो दिया और अब मैं हमेशा के लिए सोने जा रही हूं. क्या इस दर्द की हकदार थीं. जब तक तुम इस खत को पढ़ रहे होगे, मैं शायद इस दुनिया में न रहूं.

इधर सूरज की मां जरीना बहाव ने कहा है कि छह पृष्ठों वाले जिस पत्र को राबिया खान अपनी बेटी जिया का सुसाइड नोट बता रही हैं वह सिर्फ एक पुराना प्रेम पत्र है. इस आधार पर सूरज की गिरफ्तारी गलत है. उन्होंने अंतिम दम तक सूरज के लिये लड़ने की बात कही है.


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *