केरी मेट मोदी

नई दिल्ली | समाचार डेस्क: अमरीका के विदेश मंत्री जॉन केरी ने शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की. उन्होंने मोदी से कहा कि राष्ट्रपति बराक ओबामा भारत के साथ संबंधों को बेहद प्राथमिकता दे रहे हैं, साथ ही वाशिंगटन में सितंबर में होने वाले शिखर सम्मेलन के फलप्रद होने को लेकर आशान्वित हैं.

यह बैठक सात रेसकोर्स रोड स्थित प्रधानमंत्री आवास में हुई. बैठक में केरी के साथ वाणिज्य मंत्री पेनी प्रिजकर भी थे. इसके एक दिन पहले केरी ने पांचवीं भारत-अमरीका रणनीतिक वार्ता के तहत विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से मुलाकात की थी.


एक आधिकारिक बयान के मुताबिक, भारत-अमरीका रणनीतिक वार्ता के तहत यात्रा पर आए दोनों मंत्रियों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बताया कि राष्ट्रपति बराक ओबामा भारत के साथ संबंधों को बेहद प्राथमिकता देते हैं, साथ ही वाशिंगटन में सितंबर में होने वाले शिखर सम्मेलन के फलप्रद होने को लेकर आशान्वित हैं, ताकि नए एजेंडे द्वारा रिश्तों में नया अध्याय जोड़ा जा सके.

मोदी ने कहा कि दोनों देशों के बीच विचारों और हितों का व्यापक आदान-प्रदान हो रहा है.

मोदी ने वैश्विक चुनौतियों से निपटने, दुनिया में शांति और स्थिरता और भारत के आर्थिक बदलाव संबंध में भारत की भूमिका और दुनिया के दो सबसे बड़े लोकतंत्र के बीच साझेदारी के संबंध में अपना दृष्टिकोण रखा.

इसके अलावा, मोदी ने व्यापार, निवेश, स्वच्छ ऊर्जा, नव-प्रवर्तन, शिक्षा, कौशल विकास, कृषि-प्रसंस्करण, युवा सशक्तीकरण में साझेदारी के अवसरों को रेखांकित किया.

प्रधानमंत्री ने इस बात पर जोर दिया कि अंतर्राष्ट्रीय मंचों पर विकसित देश विकासशील देशों में निर्धनता की चुनौतियां और इनसे निपटने में वहां की सरकारों की जिम्मेदारियों को समझें.

उन्होंने क्षेत्रीय स्थिति के बारे में भी बात की, जिसमें एशिया प्रशांत क्षेत्र में भारत के संपर्क और संयुक्त प्रयास से दक्षिण एशिया को इकट्ठा करने की प्रतिबद्धता शामिल रही, ताकि क्षेत्रीय आर्थिक विकास को प्रोत्साहित किया जा सके.

साथ ही भारत के अफगानिस्तान को सहयोग की प्रतिबद्धता की चर्चा करते हुए आतंकवाद से निपटने के लिए जीरो टॉलरेंस की नीति की जरूरत पर बात की.

भारत आने के लिए मोदी ने केरी और प्रिजकर को धन्यवाद दिया, हालांकि यह बैठक इस बार अमरीका में होनी थी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!