केशकाल में दिखा जोगी का दमखम

रायपुर | संवाददाता:छत्तीसगढ़ के पंचायत उपचुनाव में अजीत जोगी ने एक बार फिर अपना दबदबा दिखा दिया है. बस्तर के केशकाल नगर पंचायत अध्यक्ष पद पर जोगी समर्थक शाहिना मेमन ने निर्दलीय प्रत्याशी के बतौर जीत हासिल की है. इधर बागबहरा नगर पंचायच चुनाव में भाजपा ने अपना परचम लहराया है.

केशकाल में जोगी समर्थक अमीन मेमन की भाभी शाहिना मेमन निर्दलीय प्रत्याशी के रुप में मैदान में उतरीं और उन्होंने भाजपा औऱ कांग्रेस दोनों ही दलों के उम्मीदवारों को धूल चटा दी. शाहिना मेमन को 2931 मत मिले, वहीं भाजपा के श्यामलाल जायसवाल को 1131 मत मिले. कांग्रेस प्रत्याशी ममता चंद्राकर को केवल 441 वोटों से संतोष करना पड़ा. केशकाल के 15 वार्डों के अंतर्गत कुल 6617 वोटर हैं, जिनमें करीब 4600 लोगों ने मताधिकार का प्रयोग किया. 88 वोट निरस्त कर दिए गए थे.


पिछले कुछ समय से कांग्रेस में यह चर्चा बनी हुई है कि अजीत जोगी पार्टी में किनारे कर दिये गये हैं. दूर की कौड़ी लाने वालों ने तो यहां तक हवा उड़ी दी कि अजीत जोगी आने वाले दिनों में कांग्रेस पार्टी छोड़ सकते हैं और बसपा में शामिल हो सकती हैं. लेकिन पिछले कई सालों से हवा में तैरती इन खबरों को अजीत जोगी खारिज करते रहे हैं. ऐसे में दरभा कांड के बाद कहा जाने लगा कि जोगी की केंद्रीय नेतृत्व से दूरी बन गई है और उनके समर्थक भी उनसे पीछा छुड़ा रहे हैं. जाहिर है, ऐसी स्थिति में केशकाल चुनाव पर सबकी नजरे टिकी हुई थीं.

केशकाल उपचुनाव में पहले शाहिना मेमन ने कांग्रेस की ओर से पर्चा भरा था. लेकिन ऐन वक्त पर फार्म बी ममता चंद्राकर को दे दिया गया था. तर्क दिया गया कि शाहिदा मेमन कांग्रेस की प्रत्याशी भी नहीं हैं. ऐसे में जोगी समर्थक शाहिदा मेमन चुनावी मैदान में डंटी रहीं और गुरुवार को उन्होंने साबित कर दिया कि जोगी समर्थकों की अवहेलना कांग्रेस पार्टी को महंगी पड़ सकती है. कांग्रेस पार्टी ने निर्दलीय उम्मीदवार का प्रचार करने वाले कई जोगी समर्थकों को पार्टी से बाहर का भी रास्ता दिखा दिया. यहां तक कि अमीन मेनन भी पार्टी से बाहर निकाल दिये गये. लेकिन जोगी समर्थकों ने पार्टी की परवाह नहीं की.

इधर बागबाहरा में भाजपा की उकिया शंकर तांडी ने अपनी निकटतम प्रतिद्वंद्वी को 1533 वोटों से पराजित किया. उन्हें कुल 4261 वोट मिले, जबकि कांग्रेस की बसंती बघेल को 2728 तथा निर्दलीय प्रत्याशी अनिता हरपाल को 1739 वोट मिले. एक अन्य निर्दलीय प्रत्याशी मोतिन बबला सोनवानी को 211 मत मिले. नगर पंचायत बागबाहरा के 15 वार्डों के कुल 13778 मतदाताओं में से 9143 मतदाताओं ने मतदान के दिन अपने मतों का प्रयोग किया था.

गौरतलब है कि बागबाहरा में निर्वाचित हुई जनपद अध्यक्ष कुंती महानंद की उम्र निर्धारित मापदंड से कम होने के कारण हाईकोर्ट ने उनके निर्वाचन को अवैध घोषित कर दिया था, वहीं चुनावी खर्च का हिसाब न देने के कारण केशकाल से निर्वाचित नगर पंचायत अध्यक्ष पीलाबाई जैन का निर्वाचन रद्द कर दिया गया था. इसके कारण ये उपचुनाव हुए थे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!